श्रमिकों की मांगों को लेकर सीटू कार्यकर्ताओं ने जगह-जगह विरोध प्रदर्शन किया

शब्दवाणी समाचार, वीरवार 25 अगस्त 2022, गौतम बुध नगर। ग्रेटर नोएडा, सी.आई. टी. यू. दिल्ली एनसीआर राज्य कमेटी ने एनसीआर औद्योगिक मजदूरों की समस्याओं/मांगों को लेकर 24 अगस्त 2022 को मांग दिवस मनाने के निर्णयानुसार सीटू जिला कमेटी गौतम बुध नगर कमेटी ने नोएडा व ग्रेटर नोएडा में जगह-जगह औद्योगिक इलाकों/ कम्पनियों के गेटों पर विरोध प्रदर्शन/ गेट मीटिंग, सभा कर मनाया। उधोग विहार ग़ेटर नोएडा पर विरोध प़र्दशन को सम्बोधित करते हुए सीटू के राष्ट्रीय सचिव कामरेड उमेश ने क़ेन्द व प़देश सरकार की मजदूर विरोधी व जन विरोधी नीतियों को रेखांकित किया।

 विरोध प्रदर्शन के माध्यम से मनाए गए मांग दिवस की मांगों को रेखांकित करते हुए सीटू जिलाध्यक्ष गंगेश्वर दत्त शर्मा ने बताया कि लेबर कोड्स रद्द करने, न्यूनतम मजदूरी ₹26000 करने, एनसीआर क्षेत्र में समान वेतन लागू हो, यूनियनों का रजिस्ट्रेशन 45 दिन में किया जाए। मजदूरों का उत्पीड़न रोकने के लिए ठोस कदम उठाए जाएं, छटनी ग्रस्त मजदूरों को बहाल कराया जाए, ठेका प्रथा समाप्त की जाए और ठेका मजदूरों को स्थाई किया जाए। ओवरलोड बंद हो और मजदूरों के कार्यस्थल पर सुरक्षा उपायों की गारंटी हो तथा मजदूरों को सस्ते आवास उपलब्ध कराए जाएं। मजदूरों की प्रमुख मांगे हैं जिनको लेकर मजदूर संगठन सीटू पूरे एनसीआर क्षेत्र में अभियान चलाकर बड़े आंदोलन की भूमिका तैयार करने की रणनीति पर कार्य कर रहा है आज पूरे एनसीआर क्षेत्र में मांग दिवस मनाया जाना इसी कड़ी का हिस्सा है।

 जगह-जगह हुए विरोध प्रदर्शनों का नेतृत्व सीटू नेता रामसागर, हुकम सिंह, गंगेश्वर दत्त शर्मा, मुकेश कुमार राघव, मोहम्मद फिरोज खान, संतोष कुमार, अमीचंद, पूनम देवी, धर्मेंद्र, राम स्वार्थ आदि ने किया। सीटू जिला महासचिव राम सागर ने कहा है कि यदि हमारी मांगों का उचित समाधान समय रहते नहीं किया तो हमारा संगठन पूरे एनसीआर क्षेत्र में बड़ा आंदोलन करने को विवश होगा साथ ही उन्होंने मांग दिवस को सफल बनाने के लिए जनपद के श्रमिकों को सीटू की ओर से बधाई दी। 

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा