इनफिनिटी लर्न बाइ श्री चैतन्‍य ने द फ्यूचर फाउंडेशन स्‍कूल के अग्रदूत श्री ऑरोबिंदो इंस्टिट्यूट ऑफ कल्‍चर के साथ साझेदारी

◆ पूर्वी भारत में 9वीं और 10वीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिये स्‍कूल में पठन-पाठन की प्रक्रिया से जुड़ी अपनी तरह की अनूठी पहल 

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 23 अगस्त 2022, कोलकाता। श्री ऑरोबिंदो इंस्टिट्यूट ऑफ कल्‍चर के द फ्यूचर फाउंडेशन स्‍कूल ने अपने  सह-शैक्षिक गतिविधि (सीएसए) विद्यार्थियों के लिये रोबोटिक्‍स कोर्स की पेशकश करने के लिए भारत की तेजी से बढ़ रही एडटेक कंपनी इनफिनिटी लर्न बाइ श्री चैतन्‍य के साथ गठबंधन किया है। इस सहयोग से आज के जमाने के नए-नए कौशल सिखाने वाली शिक्षा के क्षेत्र में स्‍कूल की पहल को बढ़ावा मिलेगा। यह कोर्स तीसरी कक्षा से लेकर 8वीं कक्षा तक के ऐसे सभी विद्यार्थियों के लिये खासतौर से तैयार किया गया है, जिन्‍होंने श्री ऑरोबिंदो इंस्टिट्यूट ऑफ कल्‍चर (एसएआईओसी) के तहत सीएसए का चुनाव किया है। यह स्‍कूल द्वारा पहले से पेश की जाने वालीं मौजूदा सह-शैक्षिक गतिविधियों के अतिरिक्त है।  

इनफिनिटी लर्न के साथ मिलकर श्री ऑरोबिंदो इंस्टिट्यूट ऑफ कल्‍चर (एसएआईओसी) ने द फ्यूचर फाउंडेशन स्कूल के शिक्षार्थियों के लिए यह अभिनव अध्यापन-शिक्षण अनुभव लागू किया है। इसका उद्देश्य शिक्षार्थियों को रचनात्मक, गतिशील और भविष्य-तत्पर पाठ्यक्रमों का व्यावहारिक ज्ञान से लैस करना भी है ताकि उन्हें भविष्य में आजीविका के पथ पर आगे बढ़ने में समर्थ बनाने के लिए एक मजबूत बुनियाद का निर्माण हो सके। स्‍कूल ने ‘हाइफ्लेक्‍स क्‍लासेस’ नामक एक पायलट प्रोजेक्‍ट भी पेश किया है जो देश में जेईई/एनईईटी जैसी विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए शिक्षुओं की तैयारी के दौरान आने वाली चुनौतियों का समाधान प्रस्तुत करना है। यह पूर्वी भारत में अपनी तरह की पहली पहल है। यह एक हाइब्रिड प्रकार की पहल है जिसमें स्कूल में भौतिक कक्षाओं के फायदे और प्रमाणित विशेषज्ञता से लैस अध्यापकों के साथ ऑनलाइन बातचीत की सुविधा उपलब्ध है। ये कक्षाएँ द फ्यूचर फाउंडेशन स्कूल की कक्षा 9 और 10 के विद्यार्थियों की ज़रुरत पूरी करती हैं और स्कूल की अध्यापन-शिक्षण प्रक्रिया के साथ जोड़ती है। यह ऐसे विद्यार्थियों के लिये दोहरा फायदा है, जिन्‍हें न केवल स्‍कूल के शिक्षकों से, बल्कि एशिया के सबसे बड़े शैक्षणिक समूह श्री चैतन्‍य के विशेषज्ञ शिक्षकों से भी सहयोग मिलेगा।

इनफिनिटी लर्न बाइ श्री चैतन्‍य के प्रेसिडेंट एवं सीईओ, उज्‍जवल सिंह ने कहा कि, “हम रोबोटिक्‍स और एआई के लिये पाठ्यक्रम विकसित करने हेतु द फ्यूचर फाउंडेशन स्‍कूल के साथ भागीदारी करके बहुत खुश हैं। रोबोटिक्‍स से शिक्षा का कायाकल्‍प हो सकता है और विद्यार्थियों के लिये एसटीईएम की प्रभावी पढ़ाई को आसान बनाने वाला एक अनुकूल वातावरण निर्मित हो सकता है। इनफिनिटी लर्न द्वारा पेश किये जा रहे ‘इनफिनिटी फ्यूचर्ज़’ रोबोटिक्‍स प्रोग्राम का लक्ष्‍य एक सर्वांगीण दृष्टिकोण प्रदान करना और समस्‍या समाधान, रचनात्‍मक चिंतन, तार्किक एवं विश्‍लेषणात्‍मक औचित्‍य, आदि जैसे एचओटीएस पर ध्‍यान देना है। इससे विद्यार्थी ‘प्रौद्योगिकी का नया खोजी और डिजाइनर’ बनने के लिये प्रोत्‍साहित होगा। मुझे विश्‍वास है कि यह कोर्सेस 21वीं सदी में अपने करियर को आकार देने में विद्यार्थियों की काफी मदद करेंगे और छोटी उम्र से ही उनमें प्रतिभा का विकास करेंगे।

स्‍कूली स्‍तर पर नये और समसामयिक विषयों को पेश करने की जरूरत पर जोर देते हुए, श्री ऑरोबिंदो इंस्टिट्यूट ऑफ कल्‍चर के सेक्रेटरी और द फ्यूचर फाउंडेशंस के  प्रिंसिपल, रंजन मित्‍तर ने कहा कि, “द फ्यूचर फाउंडेशन स्‍कूल ने हमेशा अपने विद्यार्थियों के लिए अलग-अलग तरह के विषय लाने का प्रयास किया है, जो उनकी रूचि और क्षमता के अनुरूप हों और समकालीन आवश्‍यकताओं को भी पूरा करें। इसी उद्देश्‍य के साथ हमारा स्‍कूल रोबोटिक्‍स और एआई जैसे विषय प्रस्‍तुत करने की योजना पर काम कर रहा है। मुझे खुशी है कि इन दो विषयों का पाठ्यक्रम इनफिनिटी लर्न द्वारा तैयार किया जा रहा है। उनकी विशेषज्ञता और मार्गदर्शन बेहद प्रशंसनीय हैं।

Comments

Popular posts from this blog

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ गोविंद जी द्वारा हार्ट एवं कैंसर हॉस्पिटल का शिलान्यास होगा

झूठ बोलकर न्यायालय को गुमराह करने के मामले में रिपब्लिक चैनल के एंकर सैयद सोहेल के विरुद्ध याचिका दायर

22 वें ऑल इंडिया होम्योपैथिक कांग्रेस का हुआ आयोजन