मिथिला मैथिली संगठनों का मिथिला राज्य के लिये बैठक

शब्दवाणी समाचार, सोमवार 17 अक्टूबर 2022, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, नई दिल्ली। अखिल भारतीय मिथिला राज्य संघर्ष समिति के  आह्वान पर दिल्ली के मिथिला चौक पर संघर्ष समिति के महासचिव श्री आर एन झा के अध्यक्षता में दिल्ली- एनसीआर के मिथिला मैथिली के संगठन की बैठक आयोजित की गई. बैठक का संचालन संघर्ष समिति के राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं मीडिया प्रभारी ईंजीनीयर शिशिर कुमार झा ने की. मिथिला राज्य अभियानी एवं गायिका मोनी बैदेही के मिथिला राज्य आंदोलन के गीत से बैठक शुरुआत हुई.इस बैठक में अखिल भारतीय मिथिला संघ,  मिथिला स्टूडेंट यूनियन, मिथिला राज्य निर्माण सेना, विश्व मैथिली संघ सहित 25 संगठनों ने हिस्सा लिया. साथ हीं कांग्रेस, बीजेपी, आप, एलजेपी, आरजेडी एवं जेडीयू में काम कर रहे मैथिल नेता मिथिला राज्य आंदोलन को  तेज करने के लिये उपस्थित होकर अपने सुझाव दिये.

इस बैठक का उदेश्य 15 जनवरी 2023 के बाद संघर्ष समिति के नेतृत्व में सम्पूर्ण मिथिला में प्रस्तावित विशाल पदयात्रा को सफल बनाने के लिये एक मोर्चा बनाकर संचालन समिति का गठन करना था. उपस्थित संगठनों के पदाधिकारियों को लेकर 65 सदस्यीय संचालन समिति का गठन किया गया. बांकी संगठनों से सम्पर्क स्थापित कर संचालन समिति की संख्या 151 की जायेगी. संघर्ष समिति के इस प्रस्तावित पदयात्रा को डाक्टर, ईंजीनीयर, वकील, व्यापारी और मिथिला के पंडित एवं बुद्धिजीवी ने उपस्थित होकर समर्थन किया. सबों ने तन-मन- धन से सहयोग देने की इच्छा जताई. वक्ताओं ने अपने सुझाव और सलाह से मिथिला राज्य आंदोलन को धारदार बनाने की वकालत की. राष्ट्रीय अध्यक्ष डा० बैद्यनाथ चौधरी बैजू ने  इस बैठक में आये सभी संगठनों और मिथिला राज्य अभियानी को धन्यवाद देते हुये कहा कि 5 नवंबर 2022 को दरभंगा के महाराज महेश ठाकुर मिथिला महाविद्यालय के सभागार में 3 बजे से सर्वसंगठन का बैठक होगा. मिथिला के सम्पूर्ण भूभाग में ये बैठक पदयात्रा से पहले आयोजित की जायेगी.

अध्यक्षीय भाषण में श्री आर एन झा ने कहा मैं मैथिली भाषा को संविधान में जगह दिलाने में प्रधानमंत्री वाजपेयी जी से वार्ता में उस प्रतिनिधिमण्डल का हिस्सा था. मिथिला राज्य के लिये भी उसी तरह आखिरी वार्ता में प्रतिनिधिमण्डल का हिस्सा बनने की ख्वाहिश है. अंतरराष्ट्रीय संयोजक प्रो० अमरेन्द्र कुमार झा ने तमाम मिथिला मैथिली अभियानी को सर में कफन बांधकर मिथिला राज्य आंदोलन को आगे बढाने के लिये सहयोग देने की अपील की. उन्होंने कहा कि  मिथिला राज्य के बिना मिथिला का विकास और मैथिली भाषा का उत्थान नहीं होगा. संघर्ष समिति के डा० शेख मजीद आलम, एडवोकेट मुकेश आनंद एवं सियाराम कामत, उपाध्यक्ष हीरालाल प्रधान एवं भगवंत झा, नोएडा संयोजक मदन झा, व्यापारी एम जी रब्बानी एवं कृष्ण कुमार मिश्रा, ईंजीनीयर शंभु कुमार यादव, डा० रजिपाल झा एवं डा० अरविंद दास ने कहा कि पदयात्रा के लिये हमलोग अपने अपने जिले जाकर मिथिला में होने वाले विशाल पदयात्रा में हिस्सा लेंगे। 

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा