मन के अंधेरे के रावण को मारना है : डा. नरेन्द्र आहुजा विवेक

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 15 अक्टूबर 2022, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, गाजियाबाद। केन्द्रीय आर्य युवक परिषद् द्वारा रावण अभी मरा नहीं विषय पर ऑनलाइन गोष्ठी का आयोजन किया गया।यह करोना काल में 455 वां वेबिनार था। हरियाणा के पूर्व राज्य औषधि नियन्त्रक एवं केंद्रीय आर्य युवक परिषद  हरियाणा के प्रभारी नरेन्द्र आहूजा विवेक ने कहा कि विजयदशमी का पर्व मना कर हम बहुत प्रसन्न होते हैं कि हमने प्रति वर्ष लम्बे होते रावण के पुतले को जला दिया और बुराइ,अधर्म पर अच्छाई और धर्म की विजय हुई। लेकिन हमारे भीतर हमारे मन के अंधेरे कोनों में छिपा रावण अट्टाहस लगा कर हंसता है कि वह तो जीवित है हमारे ही भीतर काम,क्रोध,लोभ,मोह ईर्ष्या,द्वेष अहंकार आदि कलुषित भावनाओं के रूप में जिंदा है। जब तक समाज मे जातिवाद, भाषा,क्षेत्र वाद,ऊंच नीच के वाद विवाद हैं तब तक समझो रावण अभी मरा नहीं हमारे समाज मे जीवित है।जब तक राष्ट्र विरोधी ताकतें मेरे देश की अखंडता सम्प्रभुता पर खतरा बनी हुई है तब तक समझो कि रावण अभी मरा नहीं।हमें अपने भीतर मन के अंधेरे कोनों में चोर की तरह छिपे रावण का वध सत्य वैदिक सिद्धान्तों सदाचार से करना होगा। समाज में पाखंड अंधविश्वास आपसी झगड़ों के रावण का वध सत्य के अर्थ के प्रकाश से करना होगा और राष्ट्र विरोधी ताकतों को पराक्रम से कुचल कर रावण का वध करना होगा तभी विजय दशमी मनाना सार्थक होगा।

केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य ने कहा कि समाज में व्याप्त बुराईयां सभ्य समाज के लिए चुनौती है उन्हें मिलकर दूर करने का कार्य करना है। मुख्य अतिथि सुनीता बुग्गा व अध्यक्ष प्रवीन आर्य (प्रांतीय महामंत्री केआयूप उत्तर प्रदेश) ने भी अपने विचार रखते हुए विजय दशमी के रचनात्मक संदेश को ग्रहण करने का आह्वान किया। गायिका अनिता रेलन, प्रतिभा कटारिया,जनक अरोड़ा, रविन्द्र गुप्ता, कृष्णा गांधी,कमला हंस, सुनीता अरोड़ा, कौशल्या अरोड़ा, कमलेश चांदना, अंजु आहुजा, दीप्ति सपरा,रजनी गर्ग,रजनी चुग,पिंकी आर्या,कुसुम भंडारी, विजय खुल्लर आदि के मधुर भजन हुए। 

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा