मेकमाईट्रिप ने होटल बुकिंग के लिए बुक विद नो पेमेंट फीचर किया लॉन्च

शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 28 अक्टूबर 2022, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, नई दिल्ली। भारत की अग्रणी ऑनलाईन ट्रैवल कंपनी, मेकमाईट्रिप ने एक नया व अभिनव पेमेंट मॉडल ‘बुक विद नो पेमेंट’ शुरू किया है, जिसके द्वारा घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय यात्री भारत एवं विदेशों में बिना किसी अग्रिम भुगतान के होटल बुक कर सकेंगे। यह बेहतरीन फीचर अधिकांश होटलों में मेकमाईट्रिप और गोआईबीबो ऐप पर उपलब्ध है और यह सुविधा तब प्राप्त की जा सकती है, जब यात्री चेक-इन की वास्तविक तारीख से पाँच दिन पहले बुकिंग करता है। यह फीचर उन यात्रियों की सुविधा के लिए प्रस्तुत किया गया है, जिनकी यात्रा की योजना अनिश्चित होती है, और जो यात्रा की तारीख से काफी समय पहले बुकिंग किया करते हैं। इस फीचर द्वारा उन्हें बाद में भुगतान करने की सुविधा मिलती है, और वो होटल की नीति के अनुसार, चेक-इन से 72 घंटे पहले तक भुगतान कर सकते हैं, ताकि उन्हें यात्रा से संबंधित वित्तीय चिंता का सामना न करना पड़े। होटल की बुकिंग के लिए भुगतान की विधि (यूपीआई/नेट बैंकिंग/क्रेडिट एवं डेबिट कार्ड और वॉलेट्स) की पुष्टि करने के लिए यात्री को केवल 1 रु. का भुगतान करना होता है। यदि बुकिंग पूरी न की जाए, तो मेकमाईट्रिप भुगतान किए गए इस 1 रु. की राशि को ऑटोमैटिक रूप से भुगतान के ओरिज़नल माध्यम द्वारा लौटा देता है।

मेकमाईट्रिप के सीओओ, विपुल प्रकाश ने कहा पिछले दो दशकों में हमने देश में होटलों की ऑनलाईन बुकिंग का आकार तय करने के लिए अनेक उत्पाद लॉन्च किए हैं। हम अब एक बड़ी पहल करते हुए भारत और विश्व में यात्रियों द्वारा होटल बुक करने के तरीके में परिवर्तन लाने के लिए एक नया फीचर पेश कर रहे हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘लॉन्च के पहले माह हमने देश में इस फीचर के उपयोग में काफी वृद्धि देखी है तथा इस समय से दो महीने बाद तक के लिए होटलों की बुकिंग हो चुकी है। इस फीचर का उपयोग करके होने वाली 35 प्रतिशत बुकिंग टियर 2 और टियर 3 बाजारों से मिल रही हैं।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा