13 खिलाड़ियों को भारतीय खेल प्राधिकरण ने हाई-परफॉर्मेंस डायरेक्टर किया नियुक्त

◆ साई ने कृपाशंकर को दी बड़ी जिम्मेदारी, कुश्ती खेल के लिए हाई परफॉरमेंस डायरेक्टर नियुक्त

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 13 दिसम्बर  2022, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, नई दिल्ली। खेल मंत्रालय और भारतीय खेल प्राधिकरण ने 2028 लॉस एंजेलिस, अमेरिका मे आयोजित ग्रीष्मकालीन ओलंपिक तक कुश्ती के लिए पहले हाई परफॉरमेंस डायरेक्टर (HPD) के रूप में इंदौर के अर्जुन अवार्डी कुश्ती कोच  कृपाशंकर पटेल  की नियुक्ति को मंजूरी दे दी है । अर्जुन पुरस्कार विजेता और दंगल फिल्म के कोच कृपाशंकर बिश्नोई की रग रग में कुश्ती बसती है और कुश्ती के क्षेत्र में उन्होंने अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। कृपाशंकर की प्रतिभा को उनके पहलवान चाचा शिवराम पटेल ने बचपन में पहचाना। भारतीय खेल प्राधिकरण ने आवश्यक बुनियादी जरूरतों के साथ उपकरण, प्रशिक्षण और प्रतियोगिता के अवसर प्रदान किए, तो कृपाशंकर ने कुश्ती में इतिहास बना दिया। 

कृपा ने 53 अंतराष्ट्रीय कुश्ती प्रतियोगिताओं में देश का प्रतिनिधित्व करते हुए 11 स्वर्ण, 8 रजत और 5 कांस्य पदक जीते तथा 56 राष्ट्रीय कुश्ती प्रतियोगिताओं में प्रदेश व रेलवे का प्रतिनिधित्व करते हुये 25 स्वर्ण, 11 रजत व 7 कांस्य पदक अर्जित किए | कुश्ती में एनआईएस, खेल कोचिंग का "ए" ग्रेड डिप्लोमा प्राप्त किया तथा वर्ष 1994 में मध्य प्रदेश शासन के सर्वोच्च खेल पुरस्कार "विक्रम अवार्ड" एंव वर्ष 2000 में भारत सरकार के खेल पुरस्कार अर्जुन अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका हूँ। पिछले 15 वर्षों के दौरान रेलवे तथा राष्ट्रीय कोचिंग शिविर में मेरे मार्गदर्शन में प्रशिक्षण प्राप्त कर भारतीय महिला / पुरुष पहलवानों ने विशिष्ट उपलब्धियां प्राप्त की हैं जिसमें साक्षी मलिक का 2016 रियो ओलंपिक महिला कुश्ती में भारत का पहला ओलंपिक पदक भी शामिल है। 

कृपा ने इसी दौरान महिलाओं को सशक्त बनाने और भारत में कुश्ती को बढ़ावा देने में मदद करने वाली कुश्ती पर बनी ब्लॉकबस्टर फिल्म दंगल के लिए आमिर खान सहित अन्य कलाकारों को 14 महीने तक कुश्ती के दांवपेच भी सिखाए, साथ ही कुश्ती दृश्यों की कोरियोग्राफी और बाउट कम्पोजिंग का कार्य भी किया है। कुश्ती ट्रेनिंग कार्य और कुशलता ही कहेगे की दंगल केवल भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया भर में सबसे बड़ी ब्लॉकबस्टर फिल्म बन गई। चीनी राष्ट्रपति श्री शी जिनपिंग ने भी फिल्म देखी और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के साथ मुलाकात के दौरान उन्होंने फिल्म में कुश्ती दृश्यों की सराहना भी की | फिल्म के बाद महिलाओं का कुश्ती के प्रति देश में नजरिया बदला है। वर्तमान में भारतीय कुश्ती को और अधिक प्रबल बनाने के उद्देश्य से NCOE सोनीपत ज्वाइन किया हू | भारतीय रेलवे से भारतीय खेल प्राधिकरण NCOE सोनीपत में कुश्ती कोच के रूप में प्रतिनियुक्ति पर कार्य कर रहे हूँ।

Comments

Popular posts from this blog

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा

तुलसीदास जयंती पर जानें हनुमान चालीसा की रचना कैसी हुई : रविन्द्र दाधीच