पन्द्रहवां जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फैस्टिवल 6 जनवरी 2023 से

◆ जिफ 2023 के लिये 6 श्रेणियों में नामांकित फिल्मों की तीसरी सूची जारी

◆ 5 देशों की 32 फिल्मों का हुआ है चयन

◆ राजस्थान से है 11 फ़िल्में, राजस्थानी भाषा में बनी फूल लेंथ तीन फ़िल्में भी है शामिल

शब्दवाणी समाचार, रविवार 4 नवम्बर  2022, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, जयपुर। आगामी 6 से 10 जनवरी को आयोजित होने जा रहे देश दुनिया में आकर्षण का केंद्र बन चुके और अपने पन्द्रहवें साल के जश्न की तैयारियों के चलते जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल - जिफ ने चयनित फिल्मों की तीसरी सूची सोमवार को जारी कर दी है. इस सूची में पांच देशों से प्राप्त 250 फिल्मों में से 32 फ़िल्में शमिल की गयी है। हम राजस्थान वासियों के लिए यह ख़ुशी का मौका है कि सोमवार को जारी की गई सूची में राजस्थान से 11 फिल्में शामिल हैं। इनमें राजस्थानी भाषा में बनी फूल लेंथ तीन फ़िल्में भी है शामिल।

शॉर्ट फिक्शन फिल्मों में अनिरुद्ध जायमन की दा डार्क साइड, राजेश सेठ की दा आईज़, बिरेन्द्र राजबंश की उडक, तप्तेश कुमार मेवाल की वृक्ष, हेमन्त सीरवी की अनमोल धरोहर, गोडलिया  और सोच शामिल है। वहीं राजस्थान से डॉक्यूमेंट्री शॉर्ट फिल्मों में सुभाष प्रजापत की झाड़ू, डपली और हम शामिल है। फुल लैन्थ राजस्थानी भाषाई फिल्में भी हैं शामिल अपनी ऐतिहासिक विरासत के लिए लोकप्रिय राजस्थान से तीन फुल लैन्थ फीचर फिल्में हैं, जिनमें नीरज खण्डेलवाल की मिंज़र, दीपांकर प्रकाश की नानेरा और अनिल भूप की सुभागी शामिल है। ख़ास बात है कि तीनो फिल्में राजस्थानी भाषा में है।

जिफ फाउंडर डायरेक्टर हनु रोज ने बताया कि पहली सूची 5 अक्टूबर को जारी  की गई थी. इस सूची में 40 देशों की 199 फिल्मों को स्थान मिला था. दुसरी सूची में 16 देशों की 51 फिल्मों का चयन हुआ था. ये फ़िल्में 18 देशों से 38 ज्यूरी सदस्यों ने चुनी है. जिफ प्रवक्ता राजेन्द्र बोड़ा ने जानकारी देते हुआ बताया कि प्रतियोगिता के लिए 06 श्रेणियों में चयनित फिल्मों में 7 फीचर फिक्शन फिल्म | 1 डॉक्यूमेंट्री फीचर फिल्म | 13 शॉर्ट फिक्शन फिल्म | 2 शॉर्ट डॉक्यूमेंट्री फिल्म, 1 एनिमेशन शॉर्ट और 8 वेब सीरीज शामिल है. इनमें 6 स्टूडेंट्स फिल्मस शामिल हैं। 21 दिसम्बर 2022 फेस्टीवल प्रोग्राम जारी किया जाएगा.

Comments

Popular posts from this blog

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा

तुलसीदास जयंती पर जानें हनुमान चालीसा की रचना कैसी हुई : रविन्द्र दाधीच