संगीत लोगों की जिंदगी का एक अहम हिस्सा : परमजीत सिंह पम्मा

◆ विनर के नाम के साथ हुआ सुर की पहचान शो का समापन 

◆ सुर की पहचान के विनर बने मंजीत सिंह दूसरे स्थान पर  राजेश अंजना तीसरे स्थान पर जफ़र मुस्तफा

शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 30 दिसम्बर  2022, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, नई दिल्ली। अगस्त 2022 को आगाज़ हुए शो सुर की पहचान का भव्य समापन  हुआ 4 महीने के एक लम्बे सफर में कई प्रतिभागियों ने अपने हुनर का बेहतरीन प्रदर्शन किया शो की सबसे खास बात जो इसे अन्य सिंगिंग रियलिटी शो से भिन्न बनाती है इस शो के प्रतिभागियों की उम्र इस शो में मुख्य रूप से 30 साल से ऊपर के लोगों को गाने का अवसर दिया गया .

आकेदेख द्वारा दिए गए अवसर का प्रतिभागियों ने भी खूब लाभ उठाया और हर राउंड में जज दीना दास और सिंगर कप अजीत के सामने अपने  हुनर का प्रदर्शन भी किया शो के ग्रैंड फिनाले में चार चांद लगाने के लिए शो में मुख्य अतिथि के रूप में नेशनल दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष परमजीत सिंह पम्मा ने शिरकत की साथ ही शंकर भूषण जी भी देखने को मिले ग्रैंड फिनाले में आये हर प्रतिभागी ने जज का दिल जीता ग्रैंड फिनाले में भाग लेने वाले प्रतिभागियों के नाम इस प्रकार से है जितेंदर गाँधी , उमेश कुमार ,मंजीत सिंह , अजय, जफ़र मुस्तफा , राजिंदर कुमार, राजेश लाख , शैलेश  किशोर, दलबीर सिंह दिलबर , क्रिस्टोफर टुनियस , वेद प्रकाश गुप्ता , राजेश अंजना ,नवीन राज सिंगला ने भाग लिया . जिसमे शो के विनर बने मंजीत सिंह जीने 3100  का कैश प्राइज एवं सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया गया , दूसरे स्थान पर रहे राजेश अंजना जिन्हे 2100  का कैश प्राइज एवं सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया गया, तीसरे स्थान पर रहे जफ़र मुस्तफा जिन्हे 1100  नकद राशि एवं सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया गया इसी के साथ शो में चौथे और पांचवे स्थान पर रहे प्रतिभागियों को भी 500  रूपए नकद एवं सर्टिफिकेट के साथ सम्मानित किया गया  चौथे स्थान पर रहे  राजेंद्र कुमार एवं पांचवे स्थान पर नवीन राज सिंगला यहाँ पर हम आपको बता दे , विनर को दी गई नकद राशि निष्ठा ध्वनि ट्रस्ट द्वारा स्पोंसर की गई। 


Comments

Popular posts from this blog

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा

तुलसीदास जयंती पर जानें हनुमान चालीसा की रचना कैसी हुई : रविन्द्र दाधीच