माननीय राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने ओपन लूप टिकटिंग प्रणाली का किया शुभारंभ

◆ एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक और ऑरियोनप्रो सॉल्यूशंस द्वारा कार्यान्वित 

◆ हरियाणा ने ओपन लूप टिकटिंग प्रणाली के साथ अपने राज्य परिवहन को डिजिटलीकरण  किया है 

◆ यह पहल भारत सरकार के 'वन नेशन वन कार्ड' विजन के अनुरूप है 

◆ इस कैशलेस टिकटिंग कार्यक्रम में नेशनल कॉमन मोबिलिटी कार्ड (एनसीएमसी), इलेक्ट्रॉनिक टिकट जारी करने वाली मशीनें (ईटीआईएम), एक जीपीएस सिस्टम और अग्रिम टिकट बुक करने के लिए ऑनलाइन आरक्षण प्रणाली शामिल हैं

शब्दवाणी समाचार, रविवार 4 नवम्बर  2022, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, कुरुक्षेत्र। भारत की माननीय राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू जी ने आज कुरुक्षेत्र में गीता महोत्सव-2022 के दौरान हरियाणा राज्य परिवहन निगम के लिए कैशलेस और कॉन्टैक्टलेस (संपर्क रहित) 'ओपन लूप टिकटिंग सिस्टम' का शुभारंभ किया। इस कार्यक्रम में हरियाणा के राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय;  हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर; हरियाणा प्रधान सचिव श्री नवदीप विर्क, हरियाणा राज्य परिवहन निदेशक श्री वीरेंद्र कुमार दहिया; राष्ट्रीय प्रबंधक-सरकारी संबंध और व्यवसाय, एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक श्री अरविंद पुरोहित और एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।

डिजिटल इंडिया की ओर बढ़ते हुए, हरियाणा ने अपने राज्य परिवहन की मौजूदा यात्री मैनुअल टिकटिंग प्रणाली का आधुनिकीकरण किया है। इस कैशलेस और कॉन्टैक्टलेस टिकटिंग कार्यक्रम के पूर्ण तंत्र में शामिल हैं एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक द्वारा जारी नेशनल कॉमन मोबिलिटी कार्ड (एनसीएमसी), इलेक्ट्रॉनिक टिकट जारी करने वाली मशीनें (ईटीआईएम), जीपीएस सिस्टम और अग्रिम टिकट बुक करने के लिए ऑनलाइन आरक्षण प्रणाली शामिल हैं। हरियाणा सड़क परिवहन के लिए इलेक्ट्रॉनिक टिकट जारी करने वाली मशीन (ईटीआईएम) और QR कोड/UPI के माध्यम से टिकट भुगतान की क्षमता एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक द्वारा प्रदान की  जाएगी। इस कदम से यात्रियों को सुविधा और बेहतर यात्रा को अनुभव मिलेगा और टिकट बुकिंग के डिजिटलीकरण से नकद लेनदेन को कम करने में मदद मिलेगी और राजस्व संग्रह  को और अधिक कुशल बनाया जा सकेगा। इस सुविधा के तहत आम लोग, छात्र, सशस्त्र बलों के कर्मियों, स्वतंत्रता सेनानी जैसे यात्री  रियायती/मुफ्त श्रेणियों के लिए बस पास के रूप में प्रीपेड ट्रांजिट कार्ड जैसी सुविधाओं का लाभ उठाने में सक्षम होंगे और मोबाइल एप्लिकेशन एवं ऑनलाइन आरक्षण प्रणाली (ओआरएस) के माध्यम से टिकट बुकिंग का लाभ उठा सकेंगे।


हरियाणा सड़क परिवहन प्रधान सचिव श्री नवदीप विर्क , ने कहा, “नेशनल कॉमन मोबिलिटी कार्ड सक्षम कॉन्टैक्टलेस और पर्यावरण के अनुकूल इलेक्ट्रॉनिक टिकटिंग सिस्टम के लॉन्च के साथ हरियाणा ने अब अपने पूरे राज्य परिवहन  के बुनियादी ढांचे का आधुनिकीकरण किया है। हमने टिकट बुकिंग और मोबाइल एप्लिकेशन के लिए एक उन्नत यात्री आरक्षण प्रणाली भी शुरू की है, जिसे https://ebooking.hrtransport.gov.in पर देखा जा सकता है। ये नई प्रणालियां हमें परिचालन क्षमता में सुधार करने, कार्यबल का प्रभावी ढंग से उपयोग करने, समग्र यात्रा अनुभव को बढ़ाने और यात्रियों के लिए जीवन को आसान बनाने में मदद करेंगी और इस प्रकार टिकट राजस्व के साथ-साथ बसों और सार्वजनिक परिवहन के माध्यम से यात्रा करने वाले यात्रियों की संख्या में वृद्धि करेंगी। 

एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक के कार्यकारी निदेशक श्री उत्तम टिबरेवाल ने कहा “एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक भारत में डिजिटलीकरण का पुरजोर समर्थन करता है। हम रोमांचित और बेहद खुश हैं कि हम हरियाणा राज्य परिवहन के लिए ओपन लूप टिकटिंग सिस्टम के लिए बैंकिंग भागीदार के रूप में योगदान कर रहे हैं। हमारे देश की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू जी द्वारा इस कार्यक्रम का उद्घाटन करना हमारी टीम के लिए अत्यंत सम्मान की बात है। टीम ने रुपे एनसीएमसी को बेहद विशेष कार्ड के रूप में विकसित किया है। हरियाणा सड़क बस नेटवर्क पर ऑफलाइन कार्ड बैलेंस के साथ टिकट खरीदने के लिए इसकी उपयोगिता के अलावा, इस प्रीपेड ट्रांजिट कार्ड का उपयोग ओपन लूप एनसीएमसी स्वीकृति के लिए सक्षम अन्य राज्य और शहर परिवहन नेटवर्क पर टिकट खरीदने के लिए किया जा सकता है। एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक की पूरी टीम की ओर से मैं हरियाणा सरकार, हरियाणा राज्य सड़क परिवहन विभाग और हमारे टेक्नोलॉजी पार्टनर ऑरियोनप्रो सॉल्यू के प्रति अपना आभार व्यक्त करना चाहता हु।

Comments

Popular posts from this blog

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

बबीता फोगट WFI के खिलाफ आरोपों की जांच के लिए गठित ओवरसाइट कमेटी पैनल में शामिल

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा