अर्बन एनिमल ने कुत्‍तों के लिये भारत का पहला डीएनए टेस्टिंग किट किया लॉन्च

• इससे बीमारी का जल्‍द पता लगाने में मिलेगी मदद

• किट्स जीवन में एक बार किए जाने वाले डीएनए टेस्ट हैं जोकि आनुवंशिक स्वास्थ्य समस्याओं का जल्द पता लगाने को प्रोत्साहित करते हैं 

• इन टेस्ट के जरिए कंपनी, अगले दशक तक पालतू कुत्‍तों के जीवनकाल को बढ़ाने के अपने लक्ष्य को पाना चाहती है

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 24 दिसम्बर  2022, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, नई दिल्लीअर्बन एनिमल, कुत्‍तों के लिए भारत के पहले हेल्थकेयर प्रदाता, ने अपनी तरह का पहला डीएनए टेस्टिंग किट लॉन्च किया है। ये किट्स 130+ आनुवंशिक स्वास्थ्य समस्याओं का पता लगाने और कुत्‍तों की उन संभावित स्वास्थ्य समस्याओं की पहचान में मदद करने के लिये है, जो उन्हें हो सकती है। इन टेस्ट का लॉन्च, कंपनी के कुत्‍तों के जीवन को बेहतर बनाने के मिशन के अनुरूप है और समय रहते बीमारियों का पता लगाकर और उचित उपचार देकर उनके जीवनकाल को बढ़ाना सुनिश्चित करता है। 2021 में शुरू किया गया अर्बन एनिमल, मुफ्त, डोरस्टेप किट डिलीवरी और सैंपल पिक अप सेवाएं प्रदान करता है। सभी नस्लों और उम्र के लिये उपयुक्त, डीआईवाई, दर्द रहित टेस्ट, सिर्फ एक स्वाब के साथ पेट पेरेंट्स की सुविधा के अनुसार किए जा सकते हैं। 

अर्बन एनिमल, इन टेस्ट के जरिए पालतुओं के डीएनए की प्रक्रिया और मूल्यांकन करने के लिये नेक्स्ट जेनरेशन सीक्वेंसिंग (एनएसजी) तकनीक का इस्तेमाल करती है। मैप टेस्ट की कीमत 6999 रुपये है, जोकि डॉग्स की प्रवृत्ति से लेकर आनुवंशिक समस्याओं की विस्तृत जानकारी देता है। इस बीच,7,499 रुपये में उपलब्ध ट्रेस टेस्ट, पेट पेरेंट्स को उनके डॉग्स के संभावित स्वास्थ्य जोखिमों के बारे में जानकारी प्रदान करता है, जो भविष्य में उन्हें हो सकती है। इसके तहत 20 शारीरिक लक्षणों के परीक्षण शामिल हैं- कोट कलर, कोट की लंबाई और पूंछ की लंबाई। उसके संभोग की अनुकूलता को भी जांचा जाता है ताकि यह पता लगाया जा सके कि पपीज की अगली पीढ़ी हर प्रकार की आनुंवशिक समस्याओं से मुक्त हो। ये टेस्ट, 8 साल से कम उम्र के कुत्‍तों के लिये सही हैं। हालांकि, पेट पेरेंट्स को कुछ लक्षणों के नजर आने पर अपने कुत्‍तों को लेकर क्रॉनिक समस्या होने का डर रहता है, जोकि इस टेस्ट किट में शामिल किया जा सकता है। रिपोर्ट के मिलने का समय तीन से पांच हफ्तों का होता है। वे उन संभावित बीमारियों के बारे में व्यापक जानकारी प्रदान करते हैं जो कुत्‍तों को हो सकती हैं, किन लक्षणों पर ध्यान देने की जरूरत होती है, बीमारियों की शुरूआत की उम्र और उनसे प्रभावित सामान्य नस्लें और बुनियादी प्रबंधन रणनीतियों वाली एक चेकलिस्ट होती है। इसके साथ ही, कंपनी, पशु चिकित्सक द्वारा घर आकर फ्री में पालतुओं को लेकर परामर्श की सुविधा भी देती है ताकि पेट पेरेंट्स उन रिपोर्ट को सही तरीके से समझ पाएं और कुत्‍तों को लेकर सूचित देखभाल के बारे में सहायता दे सकें। 

इस लॉन्च के बारे में, आकाश मुरली, फाउंडर, अर्बन एनिमल का कहना है, “अर्बन एनिमल की स्‍थापना देश में कुत्‍तों को प्रीवेंटिव हेल्‍थकेयर उपलब्ध कराने और भारत में हर पेट पेरेंट के लिये उनकी डीएनए टेस्टिंग आसान, सटीक और किफायती कीमतों पर उपलब्ध कराने के उद्देश्य के साथ हुई थी। हमारा एकमात्र ध्येय, पालतुओं को दर्दरहित, लंबा, स्वस्थ और खुशहाल जीवन देना है। रोग का समय पर पता लगाने के लिये प्रोत्साहित कर, हम अगले दशक तक उनके जीवनकाल को बढ़ाना चाहते हैं और जेनेटिक टेस्टिंग किट इसी दिशा में बढ़ाया गया कदम है। अब, हमारा मकसद इन टेस्ट के लिये प्रचार गतिविधियों को बढ़ाना और आगे आने वाले समय में 50 हजार सेल्स के लक्ष्य तक पहुंचना है।

अर्बन एनिमल का लक्ष्य आगे अपना विस्तार करना है और भविष्‍य में बिल्लियों के लिये जेनेटिक टेस्टिंग और पालतुओं के लिये नस्लों की शुद्धता की जांच की सुविधा लाना है। इसके साथ ही, कंपनी ने कुछ अतिरिक्‍त सेवाओं जैसे परामर्श, सप्लीमेंट, दवाएं, खाना आदि मुहैया कराने की जल्द पेशकश करने की योजना बनाई है। अर्बन एनिमल के विषय में अर्बन एनिमल, कुत्‍तों के लिये अपनी तरह का पहला प्रीवेंटिव हेल्थकेयर प्रदाता है, जो आनुवंशिक बीमारियों की शुरूआती पहचान को प्रोत्साहित करता है, ताकि उनकी उम्र तीन साल तक बढ़ाई जा सके। कंपनी की मुख्य खासियत, पालतुओं की सक्रिय देखभाल के लिये देश का पहला पूर्वानुमान टेस्ट प्रदान करने में निहित है। इसके तहत मुफ्त, डोरस्टेप टेस्ट किट डिलीवरी और सैंपल कलेक्शन सेवाएं शामिल हैं।

Comments

Popular posts from this blog

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा

तुलसीदास जयंती पर जानें हनुमान चालीसा की रचना कैसी हुई : रविन्द्र दाधीच