ऊबर ने ऊनी कपड़े और आवश्यक वस्तुएं वितरित करने के लिए गूंज के साथ किया साझेदार

◆ 22 दिसंबर से 24 दिसंबर तक और 26 दिसंबर को दिल्ली-एनसीआर में वस्तुओं के वितरण के लिए निशुल्क राईड प्रस्तुत कीं

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 24 दिसम्बर  2022, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, नई दिल्ली। आज ऊबर ने सर्दियों में जरूरतमंदों को ऊनी कपड़ों और अन्य आवश्यक वस्तुओं को योगदान देने के लिए लोगों को आमंत्रित कर अपना अभियान, ‘स्प्रेड वार्म्थ विद ऊबर कनेक्ट’ पेश किया। ऊबर दिल्ली-एनसीआर में 22 दिसंबर से 24 दिसंबर के बीच और 26 दिसंबर को सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक इन सामानों के लिए निशुल्क पिक-अप एवं ड्रॉप सेवा प्रदान करेगा। राईडशेयरिंग कंपनी, ऊबर ने इस अभियान के लिए अवार्ड-विनिंग एनजीओ गूंज के साथ साझेदारी की है। इस अभियान के लिए एक नया डिलीवरी विकल्प, ‘कनेक्ट गिविंग’ बनाया गया है, जिसके द्वारा लोग ऊबर ऐप में कुछ टैप द्वारा वंचितों के लिए महत्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं। ऊबर एनजीओ के दिल्ली ऑफिस को ऊनी कपड़े, बच्चों के लिए खिलौने, और स्टेशनरी सामान प्रदान करने के लिए निशुल्क ऊबर राईड प्रदान कर लॉजिस्टिक्स का सहयोग देगा। इसके बाद गूंज ये सामान अपनी ‘विंटर किट्स’ में शामिल करेगा, जो सर्दियों में संघर्ष करने वाले वंचित परिवारों के लिए तैयार की जाती हैं।

ऊबर अपने आसपास के समुदायों का सहयोग करने के लिए प्रतिबद्ध है, और दिल्ली-एनसीआर के निवासियों से इस अभियान में सहयोग करने का निवेदन करता है, जो दान करने और साझा करने की प्रक्रिया ऐप में कुछ क्लिक्स के माध्यम से बहुत आसान बना रहा है। ऊबर के अभियान के बारे में प्रभजीत सिंह, प्रेसिडेंट, ऊबर इंडिया, एवं साउथ एशिया ने कहा, ‘‘हम जिन शहरों में काम करते हैं, हमेशा सहयोग करने का प्रयास करते हैं, हमने हाल ही में महामारी के दौरान वैक्सीनेशन अभियान चलाया। दिल्ली-एनसीआर में सर्दियाँ बहुत मुश्किल होती हैं, और कई लोगों के पास इस कँपकँपाती सर्दी की पीड़ा सहने के अलावा और कोई विकल्प नहीं होता है। अपने अभियान द्वारा हम उन लोगों को प्रोत्साहित करना और सहयोग देना चाहते हैं, जो वंचितों को सर्दियों से बचाव करने में मदद करना चाहते हैं।

इस साझेदारी के बारे में अंशु गुप्ता, फाउंडर डायरेक्टर, गूंज ने कहा, ‘‘कई सालों से गूंज इस बात पर रोशनी डाल रहा है कि लोगों को पर्याप्त कपड़ों के अभाव में सर्दियों में संघर्ष करना पड़ता है। हमारे अतिरिक्त पड़े कपड़ों और ऊनी कपड़ों द्वारा इस समस्या का आसानी से समाधान किया जा सकता है। हमें उम्मीद है कि लोग और संगठन हर साल होने वाली लोगों की इस पीड़ा को खत्म करने के लिए गठबंधन करेंगे। चैरिटी की बजाय गूंज इन कपड़ों का उपयोग उन लोगों को सम्मानजनक जीवन प्रदान करने के लिए करेगा, जो अपने समुदाय के लिए काम करते हैं। इसी प्रकार हमारे कपड़े लोगों को गर्मी और सम्मानजनक जीवन प्रदान करते हैं।

Comments

Popular posts from this blog

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा

तुलसीदास जयंती पर जानें हनुमान चालीसा की रचना कैसी हुई : रविन्द्र दाधीच