उज्जीवन स्मॉल फाईनेंस बैंक के एमडी एवं सीईओ के रूप में श्री इत्तिरा डेविस की पुनर्नियुक्ति को आरबीआई की अनुमति मिली

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 13 दिसम्बर  2022, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, बैंगलुरू। उज्जीवन स्मॉल फाईनेंस बैंक को श्री इत्तिरा डेविस को दो सालों के लिए मैनेजिंग डायरेक्टर एवं सीईओ के रूप में पुनर्नियुक्त करने के लिए रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया की अनुमति मिल गई है। वो 14 जनवरी, 2023 से अपना पदभार ग्रहण करेंगे। उज्जीवन स्मॉल फाईनेंस बैंक ने जनवरी, 2025 तक उनकी पुनर्नियुक्ति के लिए रैगुलेटर की अनुमति मांगी थी। उनके नेतृत्व में बैंक ने पिछली कुछ तिमाहियों में बेहतरीन प्रदर्शन किया है। बिज़नेस वॉल्यूम (डिस्बर्समेंट और जमा, दोनों) में जबरदस्त वृद्धि के साथ कलेक्शंस में निरंतर सुधार हुआ, जिससे वित्तवर्ष 2023 की दूसरी तिमाही में 294 करोड़ रु. का सर्वाधिक त्रैमासिक लाभ मिला। श्री डेविस उज्जीवन के साथ मार्च 2015 से काम कर रहे हैं। हेड ऑफ ट्रांज़िशन के रूप में अपने पहले महत्वपूर्ण दायित्व में उनकी भूमिका माईक्रो-फाईनेंस संगठन को एक स्मॉल फाईनेंस बैंक में बदलने की थी, जिसमें एक सफल आईपीओ के साथ पूंजी बाजारों का आकलन शामिल था। 

इस अवसर पर श्री बी ए प्रभाकर, चेयरमैन, उज्जीवन स्मॉल फाईनेंस बैंक ने कहा, ‘‘हमें अपने एमडी एवं सीईओ के रूप में इत्तिरा डेविस को पुनर्नियुक्त करने की खुशी है। उन्होंने रिकॉर्ड समय में बैंक को परिवर्तित कर एक उज्ज्वल भविष्य की ओर इसका मार्गदर्शन किया है। वो एक श्रेष्ठ नेतृत्वकर्ता हैं, जिन्हें ग्लोबल बैंकिंग में विशाल अनुभव है। हम उनके सक्षम मार्गदर्शन में सफलता और वैभव की ओर बढ़ने के लिए आशान्वित हैं। श्री इत्तिरा डेविस के पास भारत, मिडिल ईस्ट और यूरोप में काम करने का 40 साल से ज्यादा समय का अनुभव है। उज्जीवन से पहले श्री डेविस यूरोप अरब बैंक, लंदन के मैनेजिंग डायरेक्टर थे। वो अरब बैंक पीएलसी और सिटी बैंक, इंडिया का नेतृत्व कर चुके हैं। वो इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट - अहमदाबाद (आईआईएम-ए) के एलुमनस हैं।

Comments

Popular posts from this blog

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा

तुलसीदास जयंती पर जानें हनुमान चालीसा की रचना कैसी हुई : रविन्द्र दाधीच