बागेश्वर सरकार के पूज्य धीरेन्द्र शास्त्री के विरोधियों को खुली चेतावनी

शब्दवाणी समाचार बुधवार 18 जनवरी 2023, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, नई दिल्ली। जय बजरंग सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नितिन उपाध्याय ने देश विदेश में प्रतिष्ठित बागेश्वर धाम सरकार परम पूज्य श्री धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री जी से मिलकर उनका सानिध्य दर्शन व आशीर्वाद प्राप्त किया तथा सनातन वैदिक संस्कृति और भारत को विश्वगुरु बनाने पर व्यापक विचार विमर्श परिचर्चा हुई। नितिन उपाध्याय ने संवाददाताओं से कहा कि कैंसर अस्पताल से बुन्देलखण्ड का भला तो हो जाएगा लेकिन जिनको मानसिक कोढ़ है उनका इलाज शायद कभी नही होगा? उन्होंने बताया कि एक 26 साल के युवा संत ने श्री बालाजी की कृपा और अपने निष्कलंक सेवा भाव से बुन्देलखण्ड का नाम पूरी दुनिया मे विख्यात कर दिया है। हिन्दू एकता को मजबूत करने और धर्मांतरण को रोकने के लिए जिस रफ्तार से काम कर रहे हैं वह रफ्तार अनेक लोगों के पेट मे दर्द पैदा कर रही है। इतनी कम आयु और गाँव की गरीबी से संघर्ष कर निकले धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जब सनातन की पताका लहराते हुए सनातन विरोधियों को ललकारते हैं तो अनेक लोगों को यह बर्दाश्त नही होता। पिछले कुछ दिनों से उनके खिलाफ साजिशों का अभियान चल रहा है। असल मे यह अभियान धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के विरुद्ध नही  बल्कि यह अभियान भारत की सनातन संस्कृति के विरुद्ध है।

आज लोग वेदों में वर्णित साधना मार्ग की शक्तियों, मंत्र की चिकित्सा, बालाजी की कृपा पर सवाल उठा रहे हैं। उन्हें इस बात में भी दिक्कत है कि तुम मंदिर में नारियल क्यों चढ़ा रहे हो। उन्हें इस बात पर भी आपत्ति है कि तुम जातियों में बंटे हिन्दू समाज को राम के नाम पर एकजुट क्यों कर रहे हो? उनकी दिक्कतें यहीं खत्म नही होंगी। वह आज इन मान्यताओं को पाखंड बता रहे हैं वे कल तुम्हारे कलावा बांधने, मन्दिर जाने, नारियल फोड़ने, हवन करने, दीपक जलाने, पितरों को पानी देने, श्राद्ध करने को भी पाखंड बताएंगे। क्योंकि उनकी कसौटी पर खरा उतरने के लिए तुम्हें 100 साल पुराने विज्ञान की किताबों से प्रमाण देने होंगे, उन्हें तुम्हारे 5000 साल पुराने ग्रथों से कोई लेना देना नही हैं।अब आप तैयार हो जाइए इनकीं दोगली परीक्षा के लिए, इनकीं घटिया चुनोतियों के लिए क्योकि इन्हें लगता है कि चादर चढ़ाना तो श्रद्धा है लेकिन अर्जी का नारियल   बांधना पाखंड है। इन्हें लगता है कि केंडल जलाना तो श्रद्धा है लेकिन दीपक जलाना पाखंड है।

हम क्या करें? इन तथाकथित अधूरे विज्ञानियों के चक्कर में अपनी मान्यताएं, अपनी निष्ठायें छोड़ दें। जी नहीं...हम ऐसे लोगों का बहिष्कार करें, जो हमें हमारे धर्म,संस्कृति और साधु संतों से नफरत करना सिखाते हैं।नितिन उपाध्याय ने कहा हम उस युवा संत के साथ हैं जो बुन्देलखण्ड का गौरव है जो करोड़ों देशवासियों की एकमात्र उम्मीद है। हजारों गरीब बहिनों की शादी करने वाले बागेश्वर धाम सरकार हर माह 10 लाख लोगों को भोजन कराने का माध्यम है। बागेश्वर धाम अपनी सामर्थ्य पर बुन्देलखण्ड में कैंसर अस्पताल खोलने का संकल्प ले चुका है। नितिन उपाध्याय ने कहा कि जो सनातन के विवेकानन्द है उन परमात्म स्वरूप गुरुदेव धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री को मेरा बारम्बार प्रणाम है। प्रख्यात राष्ट्रवादी हिंदूवादी नेता नितिन उपाध्याय ने बागेश्वर धाम सरकार के पद चिन्हों पर चलने का संकल्प लिया।

Comments

Popular posts from this blog

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा

तुलसीदास जयंती पर जानें हनुमान चालीसा की रचना कैसी हुई : रविन्द्र दाधीच