एचसीएल फाउंडेशन शहरी पारिस्थितिक बहाली के लिए सफल पीपीपी प्रयासों का नेतृत्व किया

 

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 4 फरवरी 2023, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, गौतम बुध नगर।पिछले कई दशकों से, भारत का शहरी क्षेत्र लगातार पर्यावरणीय हानि का सामना कर रहा है जिसमें प्रमुख हैं  हरित आवरण में कमी और भूजल स्तर का गिरना। एचसीएलटेक की कॉर्पोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी (सीएसआर) शाखा, एचसीएल फाउंडेशन (एचसीएलएफ) शहरों में पर्यावरण संतुलन को बनाए रखने के साझा लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए सरकार और समुदाय के सदस्यों को एक साथ लाने वाले सेतु के रूप में कार्य करने वाले अग्रदूतों में से एक है। शहरी पारिस्थितिकी तंत्र की सफल बहाली की नींव रखना इस पीपीपी (पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप) कार्यक्रम का उद्देश्य है।

सरकार और स्थानीय समुदाय की मदद से, एचसीएलएफ ने सोरखा गांव के, सेक्टर 115, नोएडा के पास 4.5 हेक्टेयर बंजर भूमि को सफलतापूर्वक एक ऐसे शहरी जंगल में बदल दिया जिसकी उत्तर्जीवितता की दर   92.3% है, जो अब 50 से अधिक पक्षियों की प्रजातियों का घर है और उसमें 85,000 से अधिक वृक्ष हैं जिनमे 60 से अधिक प्रजातियों की देशी वनस्पतियाँ हैं, यह जंगल लगभग 11,000 किलोग्राम सीओ2 का पृथक्करण करता है।

इस सब की शुरुआत विचार-विमर्श की एक लम्बी श्रृंखला के बाद 2017 में हुई, जब गौतम बुद्ध नगर के जिला प्रशासन ने एचसीएल फाउंडेशन को सोरखा गांव, सेक्टर 115, नोएडा के पास सार्वजनिक भूमि का एक टुकड़ा सौंपा। एचसीएलएफ को अपने सीएसआर कार्यक्रम के एक हिस्से के रूप में भूमि पर वन लगाना अनिवार्य किया गया था और उसे अगले 10 वर्षों तक इसे बनाए रखना था। जबकि प्रशासन ने वृक्षारोपण के लिए भूमि को चिन्हित करने का कार्य किया, इस व्यापक कार्य को सामुदायिक भागीदारी के साथ करने के लिए फाउंडेशन ने गिव मी टीज़ ट्रस्ट नामक - एक वृक्षारोपण  के लिए समर्पित एनजीओ के साथ भागीदारी की थी ।

खरपतवार और बालू से ढकी भूमि को वनरोपण के लिए तैयार करने की प्रक्रिया परिश्रम भरी थी। 80,000 से अधिक देशी पौधों के रोपण के लिए जमीन तैयार करने के लिए स्वयंसेवकों की टीम ने सबसे पहले जो किया वह था  मिट्टी की नमी को बनाए रखने वाली प्रक्रियाओं  के माध्यम से भूमि को खरपतवारों से मुक्त करना और मिट्टी की  कंडीशनिंग करना । इतनी बड़ी संख्या में पेड़ लगाने से मिट्टी सीधे सूर्य प्रकाश के संपर्क में आने से बच जाती है जबकि सघन प्राकृतिक खाद से मिट्टी के उपजाऊपन में वृद्धि होती है। बगीचों और रसोई अपशिष्ट के कम्पोस्ट खाद में बदलने में सामुदायिक भागीदारी बढाने से मिट्टी की गुणवत्ता में तेजी से सुधार करने में मदद मिली।

अधिक मल्चिंग ने मिट्टी में नमी की सही मात्रा सुनिश्चित की जबकि मियावाकी तकनीक ने पौधों की तेजी से वृद्धि जीवित रहने की ऊंची दर को  सुनिश्चित किया। सघन और घने क्लस्टर वृक्षारोपण ने प्रवासी आगंतुक पक्षियों सहित पक्षियों की 50 से अधिक प्रजातियों को आकर्षित किया और यह उनके लिए सुरक्षित आवास  बनाने का एक स्थान बन गया है। जंगल पक्षियों के आहार का सही संतुलन के साथ ध्यान रखते हैं -  अनेक प्रकार के कीटक जैसे भृंग, ड्रैगनफ्लाई, पतंगे, तितलियाँ, और मधुमक्खियाँ - और गर्म और जल स्त्रोत गर्म और अर्ध-शुष्क मौसम  के दौरान पानी की आपूर्ति  करते हैं। इन जल स्त्रोतों के द्वारा ने जलीय पौधों के साथ ऐसे जलीय क्षेत्रों का निर्माण किया जो जलीय पक्षियों और कीड़ों को आकर्षित करते हैं।

ग्लोबल सीएसआर, एचसीएल फाउंडेशन की उपाध्यक्ष, डॉ. निधि पुंढीर ने कहा, “हरित उपवन, सोरखा नोएडा निवासियों और आसपास के गांवों के लोगों के लिए एक हरा-भरा स्वर्ग बन गया है। वे यहां प्रकृति के बीच समय बिताने, टहलने या छोटे कार्यक्रमों  के लिए आते हैं। एक साझा उद्देश्य की दिशा में काम करने के लिए लोगों ने हमसे हाथ मिलाया - हमें बगीचे और रसोई के कचरे से खाद बनाने के लिए शानदार समर्थन मिला। अब तक, इस जगह पर 20,000 से अधिक लोगों आ चुके हैं जिसमें पर्यटक, स्वयंसेवक, अधिकारी, स्कूली बच्चे, परिवार आदि शामिल हैं। हमने इस साल 5000 से अधिक पौधे लगाए हैं और उपवन को बनाए रखने के लिए पहले से लगे हुए 80,000 से अधिक  पेड़ों का पालन-पोषण किया है”।

इस सफल पीपीपी उपक्रम, ने खारे भूजल को मीठा बना दिया और पशुओं के लिए चारे की उपलब्धता में वृद्धि की, प्रशासन को अन्य सहयोगियों  के माध्यम से आस-पास के क्षेत्रों में हरित उपवन, सोरखा मॉडल की तरह की पहल का विस्तार करने के लिए प्रेरित किया। इस मॉडल को दोहराने के लिए लगभग 100 हेक्टेयर अतिरिक्त सरकारी भूमि विभिन्न निगमों को सौंपी गई थी, जबकि एचसीएल फाउंडेशन जलवायु -सहनशील शहरी जगहों के निर्माण के प्रयास के रूप में अतिरिक्त 25 हेक्टेयर का निर्माण करेगा।

Comments

Popular posts from this blog

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ गोविंद जी द्वारा हार्ट एवं कैंसर हॉस्पिटल का शिलान्यास होगा

झूठ बोलकर न्यायालय को गुमराह करने के मामले में रिपब्लिक चैनल के एंकर सैयद सोहेल के विरुद्ध याचिका दायर

22 वें ऑल इंडिया होम्योपैथिक कांग्रेस का हुआ आयोजन