नॉएडा के सरस मेले में सांस्कृतिक कार्यक्रमों ने बांधा समां

◆ सरस मेले में भारत में मोटे अनाज के लिए अवसर और चुनौतियों पर कार्यशाला आयोजित की

◆ सरस मेले में श्री अन्न महोत्सव से संबंधित वर्कशॉप का आयोजन

◆ सरस मेले में 14वें दिन रही खरीदारों की भीड़

◆ सरस मेले में हैंडीक्राफ्ट तथा हैंडलूम के उत्पादों पर उमड़े खरीदार

◆ सरस मेले में अंतिम तीन दिनों के लिए सभी उत्पादों पर भारी छूट

शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 3 मार्च 2023, (ऐ के लाल) सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, गौतम बुध नगर।  सेक्टर-33ए स्थित नोएडा हाट में गुरुवार को देशभर के समूह की दीदियों के लिए कार्यशाला का आयोजन किया गया। केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय एवं राष्ट्रीय ग्रामीण विकास और पंचायती राज संस्थान के द्वारा आयोजित कार्यशाला में भारत में मोटे अनाज के लिए अवसर और चुनौतियों पर प्रकाश डाला गया। इस अवसर पर प्राचीन स्वर्ण मिल (इंसिएंट गोल्डन मिल) की सीईओ शुभांगी सिंह ने देशभर के सभी राज्यों के महिला समूहों को मिलेट्स की उपयोगिता के विषय में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आज के इस दौर में मोटे अनाज की मार्केटिंग में कैसे अवसर और चुनौतिया हैं। हमें किस तरह इन चुनौतियों का सामना करते हुए श्री अन्न यानि मोटे अनाज का प्रचार-प्रसार करते हुए लोगों तक इसकी मजबूत पकड़ बनानी है। उन्होंने कहा कि धीरे-धीरे हम अपनी प्राचीन संस्कृति की ओर लौट रहे हैं। यह देश के लिए गौरव की बात है। इस अवसर पर एनआईआरडीपीआर की दिल्ली ब्रांच प्रभारी डॉ. रुचिरा भट्टाचार्य ने बताया कि आज भारत की संस्कृति को दूसरे देश अपना रहे हैं। चाहे योगा की बात हो या फिर मौटे अनाज को अपनाने की बात हो हमारे देश की अपनी अलग पहचान है। कार्यशाला में मुख्य रूप से एनआईआरडीपीआर के असिस्टेंट डायरेक्टर चिरंजीलाल कटारिया, सुधीर कुमार सिंह, सुरेश प्रसाद तथा रमेश चंद्र उपाध्याय समेत सभी समूहों की दीदियां उपस्थिति रहीं।

इसके साथ ही मेले के 14वें दिन भारी संख्या में महिला एवं पुरुषों ने जमकर खरीदारी की। जबकि यहां विभिन्न स्कूलों के बच्चों ने भी सरस मेले का आनंद उठाया। असम, बिहार, उत्तर प्रदेश तथा मध्य प्रदेश के हैंडीक्राफ्ट तथा हैंडलूम के उत्पादों की यहां महिलाओं ने खरीदारी की। साथ ही केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय एवं राष्ट्रीय ग्रामीण विकास और पंचायती राज संस्थान ने नोएडावासियों के मेले के प्रति बढ़ते उत्साह को देखते हुए बड़ा निर्णय लिया है। मेले में अंतिम तीन दिन 3 मार्च से 5 मार्च तक सभी उत्पादों की खरीद पर 20 प्रतिशत का डिस्काउंट रखा गया है। नोएडा हाट में आयोजित सरस मेले में मौजूद क़रीब 30 राज्यों के 300 से अधिक महिला शिल्प कलाकार, जो परंपरा,  हस्तकला एवं ग्रामीण संस्कृति तथा स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी हैं, इसके साथ ही सांस्कृतिक कार्यक्रमों का प्रतिदिन आयोजन किया जा रहा है। सरस मेलों के माध्यम से लाखों महिलाओं के जीवन स्तर में सुधार हुआ है। मेले में बच्चों के खेलकूद व मनोरंजन के लिए भी संसाधन मौजूद हैं। मेले में दिल्ली-नोएडा सहित राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के लाखों दर्शक व ग्राहक भाग ले रहे हैं। दर्शकों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए तमाम व्यवस्थाएं की गई हैं। 

इंडिया फूड कोर्ट सरस आजीविका मेले में इस बार महत्त्वपूर्ण इंडिया फ़ूड कोर्ट में देश भर के 20 राज्यों की 80 (उद्धमी) गृहणियों के समूह ने अपने प्रदेश के प्रसिद्ध क्षेत्रीय व्यंजनों के स्टाल लगाए हैं, जिसमें हर प्रदेश के क्षेत्रीय व्यंजनों के स्वाद का अनोखा आनंद प्राप्त हो रहा है। सरस आजीविका मेला 2023 में कुछ उत्कृष्ट प्रदर्शन हैं, जो हैंडलूम, साड़ी और ड्रेस मेटिरियल में विभिन्न राज्यों से हैं वो इस प्रकार हैं- टसर की साड़ियां, बाघ प्रिंट, गुजरात की पटोला साड़ियां, काथा की साड़ियां, राजस्थानी प्रिंट, चंदेरी साड़ियां। हिमाचल उत्तराखंड के ऊनी उत्पाद व हैंडलूम के विभिन्न उत्पाद,  झारखंड के पलाश उत्पाद व प्राकृतिक खाद्य सहित मेले में पूरे भारत की ग्रामीण संस्कृति के विविधता भरे उत्पाद प्रदर्शित होंगे। इसके साथ ही हैंडीक्राफ्ट, ज्वैलरी और होम डेकोर के प्रोडक्ट्स के रूप में आंध्र प्रदेश की पर्ल ज्वैलरी, वूडन उत्पाद, आसाम का वाटर हायजिनिथ हैंड बैग और योगामैट, बिहार से लाहकी चूड़ी, मधुबनी पेंटिंग और सिक्की क्राफ्ट्स, छत्तीसगढ़ से बेलमेटल प्रोडक्ट्स, मडमिरर वर्क और डोरी वर्क गुजरात से, हरियाणा, का टेरा कोटा, झारखंड की ट्राइबल ज्वैलरी, कर्नाटक का चन्ननपटना खिलौना, सबाईग्रास प्रोडक्टस, पटचित्र आनपाल्मलीव ओडिशा, तेलंगाना से लेदर बैग, वाल हैंगिंग और लैंप सेड्स, उत्तर प्रदेश से होम डेकोर, और पश्चिम बंगाल से डोकरा क्राप्ट, सितल पट्टी और डायवर्सीफाइड प्रोडक्ट्स भी उपलब्ध हैं। साथ ही प्राकृतिक खाद्य पदार्थ भी फूड स्टाल पर मौजूद हैं। प्राकृतिक खाद्य पदार्थों के रूप में अदरक, चाय, दाल कॉफी, पापड़, एपल जैम और अचार आदि उपलब्ध रहेंगे। साथ ही मेले में बच्चों के मनोरंजन का भी पुख्ता इंतजाम किया गया है।

Comments

Popular posts from this blog

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ गोविंद जी द्वारा हार्ट एवं कैंसर हॉस्पिटल का शिलान्यास होगा

22 वें ऑल इंडिया होम्योपैथिक कांग्रेस का हुआ आयोजन

सेंट पीटर्स कॉन्वेंट विद्यालय ने अपना वार्षिकोत्सव मनाया