अस्पष्ट निसंतानता के मामलों में आयुर्वेदिक उपचार सबसे अच्छा विकल्प : डॉ.चंचल शर्मा

शब्दवाणी समाचार, सोमवार 17 अप्रैल 2023, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, नई दिल्ली। लाखों लोग निसंतानता की समस्या से प्रभावित हैं, जिसका सीधा प्रभाव उनके परिवारों और समुदायों पर पड़ता है। निसंतानता के कई मामले रहस्यमय ही रह जाते हैं। महिला ठीक से ओवुलेट करती है और प्रजनन तंत्र में कोई स्पष्ट असामान्यता नहीं होती है, जबकि पुरुष भी पर्याप्त शुक्राणु पैदा करता है। आशा आयुर्वेद की निदेशक डॉ. चंचल शर्मा के अनुसार, अस्पष्ट निसंतानता के लिए उपचार के विकल्प अलग-अलग होते हैं। एलोपैथी में सबसे आम तरीका है किसी महिला के अंडाशय को उत्तेजित करने के लिए दवाओं का उपयोग करना, जिससे वे अंडे (ओवेरियन उत्तेजना) का उत्पादन कर सकें। शुक्राणु को प्रत्याशित ओव्यूलेशन के लिए सीधे गर्भाशय (अंतर्गर्भाशयी गर्भाधान) डाला जाता है। डॉ. चंचल शर्मा के अनुसार, एलोपैथिक उपचार में क्लोमीफीन या इंजेक्टेबल गोनैडोट्रोपिन वर्तमान में ओवेरियन उत्तेजना (Ovarian Stimulation) के लिए पसंदीदा हैं।

क्लोमीफीन एस्ट्रोजेन को कोशिकाओं से बांधने से रोकता है, जिससे पिट्यूटरी ग्लैंड (Pituitary Gland) से निकलने वाले हार्मोन में परिवर्तन होता है और अंत में, एक अंडे की रिलीज होती है। गोनाडोट्रोपिन प्राकृतिक तरीके से पिट्यूटरी हार्मोन अंडाशय से अंडे को रिलीज करने में मदद करता हैं। हालांकि, गोनैडोट्रोपिन थेरेपी प्रतिकूल प्रभाव और कई गर्भधारण के बढ़ते जोखिम से जुड़ी है, जो गर्भावस्था और जन्म संबंधी जटिलताओं के जोखिम को बढ़ाता है। एनआईएच के अनुसार, 18 से 40 वर्ष की उम्र की महिलाओं को बेतरतीब ढंग से लेट्रोज़ोल, क्लोमीफीन या गोनैडोट्रोपिन के साथ इलाज किया जाता है। उन्हें ओवेरियन उत्तेजना दवाएं और समय पर अंतर्गर्भाशयी गर्भाधान चार मासिक मासिक चक्र तक या जब तक वे गर्भवती नहीं हो जातीं या दवा लेना बंद नहीं कर देतीं।

डॉ. चंचल का कहना है कि अस्पष्ट निसंतानता के कई कारण हो सकते हैं। यहां प्रमुख कंडीशन है जो कि अस्पष्ट निसंतानता का कारण हो सकते है। इम्यूनोलॉजिकल इंफर्टिलिटी, एग पर असर पड़ना, प्रीमैच्योर ओवेरियन एजिंग, महिला और पुरूष में हर्मोनल डिसऑडर होना, एंडोमेट्रिओसिस के कारण, ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस के कारण फैलोपियन ट्यूब की अस्तर में कुछ समस्याएं होना जो एचएसजी टेस्ट में भी पता नहीं लग पाता है, ओवुलेशन की समस्या होना अंडे और शुक्राणु के सामान्य रूप से नहीं मिल पाते जिसके कारण निषेचन की प्रक्रिया प्रभावित हो सकती है, महिला के प्रजनन प्रणाली में कमी के कारण प्रत्यारोपण (Implantation) में विफलता हो सकती है, महिला के अंडे की गुणवत्ता के साथ कुछ समस्या हो सकती है। 

डॉ. चंचल कहती है कि कई उपचार आजमाने के बाद भी कोई परिणाम नहीं निकला, तो आप आयुर्वेदिक इलाज अपना सकते है। इस तकनीक में उत्तर बस्ती सूनी कोख वाली महिलाओं के लिए वरदान साबित हुई है। जब कोई अस्पष्ट निसंतानता से पीड़ित होता है तो गर्भधारण की संभावना न के बराबर होती है। लेकिन ऐसी स्थिति को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए क्योंकि अगर किया जाए तो हर बीतते साल में गर्भवती होने की संभावना लगातार कम होती जाती है। इन सभी मामलों को आयुर्वेदिक उपचार में सर्वश्रेष्ठ इनफर्टिलिटी डॉक्टर द्वारा गंभीरता से इलाज किया जाता है। आयुर्वेद में पंचकर्म केंद्रों को नियंत्रित करने के लिए शुद्धिकरण और शमन चिकित्सा का प्रयोग किया जाता है। शोधन चिकित्सा में पंचकर्म चिकित्सा का उपयोग किया जाता है, जबकि शमन चिकित्सा में औषधीय और हर्बल दवाओं का उपयोग किया जाता है।जब लोगों को निसंतानता की समस्या का सामना करना पड़ता है, तो सबसे पहले आईवीएफ का ख्याल आता है। हालांकि, अधिकांश आईवीएफ मामलों में, निषेचन के बाद भी महिला गर्भधारण नहीं कर पाती है। लाखों खर्च करने के बाद भी अब तक कोई असर नहीं हुआ है। डॉ. चंचल शर्मा कहती हैं, "एक डॉक्टर के रूप में, मैं आपको आयुर्वेदिक उपचार पर भरोसा करने की सलाह दूंगी, जो महंगे आईवीएफ उपचार से बेहतर है।" जिस तरह एलोपैथिक साइंस में आईवीएफ एक तरीका है, उसी तरह आयुर्वेद में भी प्राकृतिक इलाज संभव है। आईवीएफ उपचार की तुलना में उत्तर बस्ती उपचार कई गुना सस्ता और प्रभावी भी है। और इस उपचार की सबसे अच्छी बात यह है कि इसमें आईवीएफ की तुलना में अधिक सफलता दर है।

Comments

Popular posts from this blog

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ गोविंद जी द्वारा हार्ट एवं कैंसर हॉस्पिटल का शिलान्यास होगा

22 वें ऑल इंडिया होम्योपैथिक कांग्रेस का हुआ आयोजन

सेंट पीटर्स कॉन्वेंट विद्यालय ने अपना वार्षिकोत्सव मनाया