10 में से 7 भारतीयों के दैनिक आहार में फाइबर की पर्याप्त मात्रा नहीं

• Aashirvaad के हैप्पी टमी पर हुए फाइबर मीटर टेस्ट में सामने आए परिणाम

• PFNDAI और Aashirvaad आटा विद मल्टीग्रेन्स द्वारा संयुक्त रूप से लिखे गए एक वाइट पेपर में भारतीय उपभोक्ताओं की पाचन स्थिति के बारे में बताया गया है और इससे जुड़ी कमियों को दूर करने पर जोर दिया गया है

• यह आंकलन हैप्पी टमी द्वारा तैयार किया गया है, जो Aashirvaad आटा विद मल्टीग्रेन्स का एक कंटेन्ट प्लेटफॉर्म है 

• डाइजेस्टिव कोशंट टेस्ट में 5.7 लाख से अधिक उपभोक्ताओं ने हिस्सा लिया, जबकि फाइबर मीटर टेस्ट में 69,000 से अधिक लोग शामिल हुए

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 30 मई 2023, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, नई दिल्ली। वर्ल्ड डाइजेस्टिव हेल्थ डे के अवसर पर ITC Ltd. के Aashirvaad आटा विद मल्टीग्रेन्स ने प्रोटीन फूड्स एंड न्यूट्रिशन डेवलपमेंट एसोसिएशन ऑफ इंडिया (PFNDAI) के सहयोग से किए गए आंकलन में यह बताया है कि भारतीय आबादी का एक बड़ा हिस्सा अपने दैनिक आहार में फाइबर की पर्याप्त मात्रा का सेवन नहीं करता है। Aashirvaad आटा विद मल्टीग्रेन्स की वेबसाइट हैप्पी टमी पर हुए फाइबर मीटर टेस्ट में हिस्सा लेने वाले 69000 से अधिक उपभोक्ताओं में से 69%+ भारतीय पर्याप्त दैनिक मात्रा से कम फाइबर का सेवन करते हैं (आरडीए 2020 के अनुसार ऑफिसों में बैठकर काम करने वाली श्रेणी के पुरुषों एवं महिलाओं के लिए)। फाइबर युक्त आहार बेहद उपयोगी होता है क्योंकि इससे हमारे पाचन तंत्र की देखभाल होती है। इससे आपको थोड़े-थोड़े समय पर भूख भी नहीं लगती और यह नियमित शौच के लिए मददगार भी होता है|

इसके अलावा यह भी जानकारी सामने आई है कि, हैप्पी टमी के डाइजेस्टिव कोशंट टेस्ट में हिस्सा लेने वाले 5.7 लाख से अधिक उपभोक्ताओं में से 70% भारतीय रोजाना 8 ग्लास से कम पानी पीते हैं, 47% भारतीय रोजाना 6 घंटे सा उससे कम सोते हैं, 35% भारतीय कोई भी शारीरिक गतिविधि नहीं करते और केवल 40% लोग ही रोजाना किसी शारीरिक गतिविधि में हिस्सा लेते हैं। साथ ही, 75% भारतीयों ने सामान्य से लेकर गंभीर तनाव से जूझने की बात स्वीकार की है। इन परिणामों के बारे में बात करते हैं, डॉ. भावना शर्मा, हेड – न्यूट्रीशन साइंसेज, ITC Ltd ने कहा, “एक व्यक्ति के अच्छे स्वास्थ्य में उसकी पाचन शक्ति महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इस DQ टेस्ट के परिणाम हमें अपने स्वास्थ को प्राथमिकता देने के लिए सतर्क कर रहे हैं, जिसकी शुरुआत हमें अपने पेट से करनी होगी। इन परिणामों के माध्यम से Aashirvaad आटा विद मल्टीग्रेन्स अधिक से अधिक लोगों को जागरूक बनाना चाहता है। साथ ही, देश के लोगों में एक स्वस्थ पाचन तंत्र विकसित करने हेतु सकारात्मक बदलाव करने के लिए उपभोक्ताओं को सक्षम बनाने का उद्देश्य भी रखता है। भरपूर फाइबर युक्त भोजन वाले एक संतुलित एवं पोषक आहार लेने और अनुशासित खान-पान की आदतें अपनाकर हम अपनी पाचन क्रिया को बेहतर बना सकते हैं तथा पाचन से जुड़ी बीमारियों से स्वयं का बचाव भी कर सकते हैं। हमे निश्चित रूप से अपने भोजन पर ध्यान देना होगा और अपने शरीर को पोषण प्रदान करने हेतु सोच-समझकर कदम उठाने होंगे ताकि हम एक स्वस्थ एवं खुशहाल जीवन बिता सकें।

Aashirvaad आटा विद मल्टीग्रेन्स की हैप्पी टमी वेबसाइट 2021 में शुरु की गई थी और इसे जानकारी प्रद कंटेन्ट हब के रूप में विकसित किया गया है, जहां आपके लिए पाचन क्रिया का आंकलन करने के अलग-अलग तरीके उपलब्ध होंगे। इस वेबसाइट पर पोषण विशेषज्ञों द्वारा प्रमाणित कंटेन्ट, ब्लॉग और वीडियो सहित फाइबर की उच्च मात्रा वाले व्यंजनों की रेसिपी भी उपलब्ध है। इसके अलावा, उपभोक्ता यहां डाइटिशियन्स के साथ मुफ्त व्यक्तिगत परामर्श भी बुक कर सकते हैं, जो कि ब्रांड टच इंडिया द्वारा शुरु की गई पहल है। यहां मौजूद आस्क द एक्सपर्ट फीचर के जरिये पोषण एवं खान-पान से जुड़े सवालों के जवाब भी प्राप्त किए जा सकते हैं। इस वेबसाइट पर मौजूद द फाइबर मीटर और माई मील प्लान की मदद से लोगों को इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) दिशानिर्देशों के अनुसार अपनी उम्र और जेंडर के हिसाब से दैनिक फाइबर आवश्यकताओं पर नजर रख सकते हैं और कोई कमी पाए जाने पर उसे दूर करने के सुझाव हासिल कर सकते हैं। 

फाइबर की प्रचुर मात्रा वाले भोजन जैसे कि गेहूं वाले प्रोडक्ट्स, मल्टीग्रेन्स, अनाज, फल, पत्तेदार सब्जियां आदि पाचन में मददगार होती है और हमारे शरीर को विभिन्न पोषक तत्व, विटामिन्स एवं मिनरल्स प्रदान करते हुए अच्छी पाचन क्रिया बरकरार रखने में सहायता करती हैं। हैरानी की बात यह है कि डाइजेस्टिव कोशंट टेस्ट में मिले जवाबों के अनुसार केवल 26% लोग रोजाना मल्टीग्रेन्स का सेवन करते हैं, जबकि 19% बिल्कुल भी सेवन नहीं करते। ITC की पोषण को सर्वोच्च प्राथमिकता देने वाली पहल ‘हेल्प इंडिया ईट बेटर’ के अंतर्गत Aashirvaad आटा अपने उपभोक्ताओं को Aashirvaad आटा विद मल्टीग्रेन्स जैसे प्रोडक्ट्स प्रदान करते हुए मदद करना चाहता है। इसमें छह अलग-अलग अनाजों का संपूर्ण मिश्रण है, जो इसे रोजाना उच्च मात्रा फाइबर प्राप्त करने के लिए एक अच्छा स्रोत बनाते हैं। उच्च मात्रा फाइबर युक्त यह आटा हमारी सामान्य पाचन क्रिया की देखभाल करने में मदद करता है। हैप्पी टम्मी के साथ ब्रांड उपभोक्ताओं को पाचन शक्ति बेहतर बनाने हेतु उपयोगी जानकारी प्रादन करते हुए सक्षम बनाना चाहता है।

Comments

Popular posts from this blog

सिंधी काउंसिल ऑफ इंडिया, दिल्ली एनसीआर रीजन ने किया लेडीज विंग की घोसणा

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ गोविंद जी द्वारा हार्ट एवं कैंसर हॉस्पिटल का शिलान्यास होगा

झूठ बोलकर न्यायालय को गुमराह करने के मामले में रिपब्लिक चैनल के एंकर सैयद सोहेल के विरुद्ध याचिका दायर