किरण नादर म्यूज़ियम ऑफ आर्ट्स की नई इमारत के मॉडल का हुआ अनावरण

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 20 मई 2023, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, नई दिल्ली। किरण नादर म्यूज़ियम ऑफ आर्ट (KNMA) ने अपने आगामी परिसर के वास्तुशिल्प मॉडल का अनावरण किया। इस नए परिसर को सुप्रसिद्ध घाना-ब्रिटिश वास्तुकार सर डेविड एडजय ने स्थानीय वास्तुकार एस.घोष एंड एसोसिएट्स के साथ मिलकर डिज़ाइन किया है। दिल्ली में साल 2026 में अनावृत होने वाला यह परिसर भारत का सबसे बड़े सांस्कृतिक केन्द्र बनने जा रहा है। इस शानदार खुशी के मौके पर नई दिल्ली में म्यूज़ियम के मॉडल को केन्द्र में रखते हुए नई प्रदर्शनी आरंभ किया गया। प्रदर्शनी के केन्द्र में म्यूज़ियम में स्थित इस नए मॉडल के इर्द-गिर्द म्यूज़ियम के संग्रह में शामिल लगभग दशकों के समय-सीमा में समाहित कलाकार तैयब मेहता (1925-2009), ज़रीना (1937-2020) और नसरीन मोहम्मदी (1937-1990) जैसे नामचीन कलाकारों का काम प्रदर्शनी में शामिल हैं। इसके साथ समकालीन फिल्म निर्माता अमित दत्ता की फिल्म टच एआईआर (2023) भी प्रदशर्नी का प्रमुख हिस्सा हैं। 

केएनएमए की स्थापना 2010 में भारत के प्रतिष्ठित कला संग्राहकों में से एक किरण नादर द्वारा की गई थी। इसकी स्थापना भारत एवं उपमहाद्वीप के आधुनिक और समकालीन कला को प्रदर्शित करने वाले एक अग्रणी निजी संग्रहालय के रूप में की गई थी। वर्तमान में इसकी दो शाखाएं हैं जो नई दिल्ली और एवं उत्तर-प्रदेश के नोएडा में स्थित हैं। आगामी परिसर जो 100,000 वर्ग मीटर से अधिक में फैला हुआ है इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के पास, दिल्ली में राष्ट्रीय राजमार्ग (NH8) पर स्थित होगा। किरण नादर म्यूज़ियम ऑफ आर्ट (KNMA) में लगभग 10,000 से अधिक आधुनिक और समकालीन कलात्मक कृतियों का संग्रह शामिल है जो देश के समृद्ध सांस्कृतिक इतिहास पर आधारित है। केएनएमए के नए परिसर में बदलती प्रदर्शनियों के साथ स्थायी प्रदर्शनी और पर्फॉर्मेंस शामिल हैं जो दृश्य कला, संगीत, नृत्य और रंगमंच के लिए एक अंतरराष्ट्रीय सांस्कृतिक मंच का काम करेगी और इस संग्रह को देखने के लिए कहीं अधिक सक्षम करेगी। किरण नादर, संस्थापक/अध्यक्ष केएनएमए का कहना है, "हम नए भवन के मॉडल का अनावरण करने को लेकर बहुत उत्साहित हैं। केएनएमए के इस नए परिसर की कल्पना एक विश्व स्तरीय सांस्कृतिक केंद्र, एक अत्याधुनिक इमारत और एक ऐसे सांस्कृतिक पावरहाउस के रूप में की गई है जो सभी के लिए उपलब्ध हो। यह सांस्कृतिक खोज, संस्कृतियों के मिलन और विविधताओं से भरपूर वार्तालापों के लिए सर्वश्रेष्ठ जगह होगी। साथ ही एक ऐसी जगह जहां हर तरह के दर्शकों का समावेश एवं जुड़ाव होगा। केएनएमए के केन्द्र में लोग और समाज शामिल हैं। इसकी बुनियाद में कला को लेकर लोगों के बीच की खाई को पाटते हुए, सांस्कृतिक अतीत के खजाने को संरक्षित करने और रचनात्मक कलाकारों एवं विचारकों की एक युवा पीढ़ी को पोषित करने की धारणा शामिल है। 

सर डेविड एडजय, वास्तुकार केएनएमए भारत के लोगों के साथ-साथ व्यापक वैश्विक कला परिदृश्य के लिए एक नई सांस्कृतिक पेशकश के ज़रिए समकालीन भारतीय कला के उदय को बढ़ावा देने का अवसर प्रदान करता है। दिल्ली-  जो दुनिया के सबसे पुराने शहरों में से एक है और जिसका इतिहास 6 वीं शताब्दी ईसा पूर्व तक फैला हुआ है- इसमे  नया संदर्भ भी देता नई ईमारत ओर भी ज्यादा कला प्रेमियों को आकर्षित करेगी। रूबिना करोडे, निदेशक और मुख्य क्यूरेटर, (KNMA): "आगामी नया परिसर केएनएमए नए क्षितिज की ओर अग्रसर करेगा और यह इसके लिए नए अध्याय की शुरुआत करने और नए मौकों की तलाश करने का काम करेगा। नई वास्तुकला के साथ, हम यह पता लगाने की कोशिश करेंगे कि कैसे विभाजन के बाद के उपमहाद्वीप में स्मृतियां और इतिहास के सवाल ने कलात्मक रूचि के लिए महत्वपूर्ण सवालों के लिए जगह बनाई है। साथ ही समय और स्थान की महीन रेखाओं के बीच यांत्रिकी और स्मरण की संरचनाओं को उजागर किया है। किरण नादर म्यूज़ियम ऑफ़ आर्ट (KNMA) की शुरुआत जनवरी 2010 में हुई थी। वर्तमान में नई दिल्ली और नोएडा में स्थित यह दक्षिण एशिया में आधुनिक और समकालीन कला का एक अग्रणी निजी संग्रहालय है।  केएनएमए की स्थापना कला संग्राहक और परोपकारी किरण नादर की पहल के माध्यम से की गई थी और यह शिव नादर फाउंडेशन द्वारा समर्थित है। साल 2026 में केएनएमए, सर डेविड एडजय द्वारा डिजाइन किए गए अपने पूर्णत समर्पित संग्रहालय भवन को खोलने के लिए तैयार है।

Comments

Popular posts from this blog

सिंधी काउंसिल ऑफ इंडिया, दिल्ली एनसीआर रीजन ने किया लेडीज विंग की घोसणा

बबीता फोगट WFI के खिलाफ आरोपों की जांच के लिए गठित ओवरसाइट कमेटी पैनल में शामिल

हार्टफुलनेस योग महोत्सव नोएडा में आयोजित