रेवफिन ने ईवी ऋण के माध्यम से बिहार और उत्तर प्रदेश की 5500 से अधिक महिलाओं को दिया ऋण

शब्दवाणी समाचार, सोमवार 28 अगस्त 2023, नई दिल्ली। उत्तराखंड तथा झारखंड में क्रमश: 550 और 362 और इसके बाद मध्यप्रदेश (166) और असम (105) में उल्लेखनीय संख्या के साथ ईवी फाइनेंसिंग से विभिन्न राज्यों में महिलाओं के सशक्तीकरण में तेजी आई है। 

ईवी ऋणों ने महिलाओं के लिए नेतृत्वकारी भूमिका की खोज करने और अतिरिक्त व्यवसाय आरम्भ जैसे उद्यमशील उपक्रम के लिए अनेक अवसर पैदा किये हैं, जिनसे महिलाओं के मौजूदा कारोबार का विस्तार हुआ है और उनमें से कई महिलाएं फ्लीट ऑपरेटर तक बन गई हैं। 

रेवफिन भारत में ग्राहकों को ऋण देने वाला तेजी से बढ़ता एक उन्नत डिजिटल प्लेटफॉर्म है जो आर्थिक रूप से कमजोर और वंचित वर्ग को सहायता देता है। यह भारत के टियर 2 और 3 शहरों की महिलाओं के उल्लेनीय विकास की सराहना करता है, जिन्होंने समानता को अपनाते हुए ईवी क्रांति का नेतृत्व करने के लिए ऋण लेने में रुचि दिखाई। महिला समानता दिवस के मौके पर, हम यह बताना चाहते हैं कि महिलाएं भी पुरुषों की तरह कमा सकती हैं, और किसी भी बाधा को पार कर सकती हैं। विभिन्न राज्यों से प्राप्त आंकड़ो के अनुसार, टियर 2 और 3 बाजारों में प्रतिभाशाली तथा सशक्त महिलाओं का प्रतिनिधित्व उत्साहजनक रूप से 24% है। 5500 महिलाओं द्वारा यह ऋण लेने के साथ बिहार तथा उत्तरप्रदेश आगे है।

रेवफिन की रिपार्ट में स्पष्ट रूप से ईवी से मिलने वाली आर्थिक मदद से विभिन्न राज्यों में महिलाओं का सशक्तीकरण दिखाई देताहै। उत्तराखंड जैसे राज्य में 550 महिलाओं ने ऋण लिया, वहीं झारखंड में यह संख्या 362 है। 

रेवफिन की एक ऐसी ही प्रेरक कहानी, हरिद्वार की रहने वाली 32-वर्षीया प्रिया वर्मा की है। पहले सिक्योरिटी गार्ड का काम करने वाली प्रिया ने लॉकडाउन के दौरान रेवफिन से ई-रिक्शा के लिए ऋण लेकर अपनी जिंदगी की कमान अपने हाथों में ले ली। 20,000 रुपये की स्थिर कमाई के साथ प्रिया अब लचीलेपन और कार्य-जीवन संतुलन का आनंद उठाती हैं, और अपना जीवन-स्तर उन्नत किया है। इससे वे दूसरे महिलाओं को ई-रिक्शा चलाने के लिए प्रेरणा का स्रोत बनकर उन्हें सशक्त बना रही हैं।

इस रिपोर्ट पर अपनी बात रखते हुए, रेवफिन के सीईओ और फाउंडर, समीर अग्रवाल ने कहा कि, “टियर 2 और 3 शहरों की महिलाओं के बोलने की विशिष्ट उच्चारण शैली को सुनकर बहुत अच्छा लगता है। ईवी फाइनेंसिंग के अवसरों का लाभ लेते हुए, ये सभी अब केवल घर पर रोटियां नहीं बनाती, बल्कि घर की कमाई में अपना योददान देने का बीड़ा भी उठाया है। सशक्त होने की चाह में, उनहोंने ऋण पाने के लिए काफी सारी विचित्र मुश्किलों का सामना भी किया। रेवफिन में, हमारी निबार्ध ऋण प्रक्रिया उन महिलाओं के सहयोग में सहारा बना। उन अद्भुत महिलाओं को आर्थिक साधन मिल रहे हैं, जिनकी वो हकदार हैं। हम सबने मिलकर एक ऐसा रास्ता तैयार किया है, जहाँ महिलाओं की क्षमता निखरती है और उनके परिवार में खुशहाली आती है। आइए, उनके अटूट विश्वास का जश्न मनाते हैं, क्योंकि वे अपनी चमक बिखेर रही हैं और एक उज्जवल कल की दिशा में आगे बढ़ रही हैं।

इस उद्योग का अग्रणी होने के नाते, रेवफिन ने आर्थिक समाधान और दृढ़ समर्पण की मदद से एक ऐसा भविष्य तैयार किया है, जहाँ महिलाओं के योगदान को कई तरह की नेतृत्व वाली भूमिकाओं तथा ईवी सेक्टर में आंत्रेप्रेन्यरशिप वेंचर्स के माध्यम से जाना और परखा जाएगा।

Comments

Popular posts from this blog

सिंधी काउंसिल ऑफ इंडिया, दिल्ली एनसीआर रीजन ने किया लेडीज विंग की घोसणा

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ गोविंद जी द्वारा हार्ट एवं कैंसर हॉस्पिटल का शिलान्यास होगा

झूठ बोलकर न्यायालय को गुमराह करने के मामले में रिपब्लिक चैनल के एंकर सैयद सोहेल के विरुद्ध याचिका दायर