दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी के अध्यक्ष को व्यक्ति विशेष का मोहरा बनकर काम करना शोभा नहीं देता : जसमीत सिंह पीतमपुरा

शब्दवाणी समाचार, रविवार 17 सितम्बर 2023, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, नई दिल्ली।शिरोमणि अकाल दल (दिल्ली) के युवा नेता जसमीत सिंह पीतमपुरा ने कहा है कि दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष हरमीत सिंह कालका केवल एक व्यक्ति विशेष का मोहरा बनकर काम कर रहे हैं। वीडियो के माध्यम से यहां जारी एक बयान में सरदार पीतमपुरा ने कहा कि बहुत ही शर्मनाक है कि दिल्ली के सिखों का प्रतिनिधित्व करने वाली संस्था दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी का वर्तमान अध्यक्ष एक विशेष व्यक्ति का मोहरा मात्र बन कर रह गया है, वह भी उस व्यक्ति का जिसने गुरु की गोलक को लूटने का काम किया व उस पर केस चल रहा है, ऐसे व्यक्ति को उसके क्षेत्रवासियों ने चुनाव में नकारते हुए हार का मुंह दिखाया मगर समझ से परे है कि ऐसी क्या मजबूरियां हैं कि हरमीत सिंह कालका को इस व्यक्ति का मोहरा बनकर काम करना पड़ रहा है। 

कौम के शेष सभी मसले जैसे बंदी सिंहों की रिहाई हो, गुरुद्वारा ज्ञान गोदरी का मामला हो या फिर डंगमार साहिब का मामला हो, क्या ये सभी मुद्दे हल हो गये हैं? उन्होंने कहा कि दिल्ली कमेटी के अध्यक्ष हरमीत सिंह कालका की मौजूदगी में सरदार तरलोचन ने पांच प्यारों को हिंदू कहा लेकिन सरकारों की चापलूसी करने वाले सरदार कालका ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी, केवल मूक दर्शक की तरह बैठे रहे उन्होंने कालका से सवाल करते हुए पूछा, ‘क्या हरमीत सिंह कालका ने मान लिया है कि पांच प्यारे हिंदू थे? सिख समुदाय कौम के गद्दारों को कभी माफ नहीं करेगा। उन्होंने दिल्ली की सिख संगत को इन सरकारी चापलूसों से सावधान रहने की अपील भी की।

Comments

Popular posts from this blog

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ गोविंद जी द्वारा हार्ट एवं कैंसर हॉस्पिटल का शिलान्यास होगा

झूठ बोलकर न्यायालय को गुमराह करने के मामले में रिपब्लिक चैनल के एंकर सैयद सोहेल के विरुद्ध याचिका दायर

22 वें ऑल इंडिया होम्योपैथिक कांग्रेस का हुआ आयोजन