सरस आजीविका मेला 2023 का आज होगा औपचारिक उद्घाटन

ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री गिरिराज सिंह करेंगे उद्घाटन

14 से 27 नवंबर तक चलने वाले इस उत्सव में 300 के करीब महिला शिल्प कलाकार, 160 के करीब स्टॉलों पर अपनी अपनी उत्कृष्ट प्रदर्शनी का प्रदर्शन कर रहे हैं

महाराष्ट्र का कोल्हापुरी चप्पल और ज्वार, रागी व बाजरा रोस्टेड मिलेट्स लोगों को कर रहा आकर्षित

शब्दवाणी समाचार, वीरवार 17 नवंबर 2023, संपादकीय व्हाट्सएप 08803818844 नई दिल्ली।सरस आजीविका मेला 2023 का औपचारिक उद्घाटन गुरुवार को किया जाएगा। इसका उद्घाटन ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री गिरिराज सिंह करेंगे। इस मौके पर उनके  साथ ग्रामीण विकास एवं उपभोक्ता कार्य, खाद्य एवं सार्वजनिक राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति और ग्रामीण विकास एवं इस्पात राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते भी मौजूद रहेंगे। साथ ही मंत्रालय के गणमान्य लोग व अधिकारी भी मौजूद रहेंगे। इसमें सचिव सैलेश कुमार सिंह, अपर सचिव चरणजीत सिंह, निदेशक राघवेंद्र प्रताप सिंह, चिरंजी लाल कटारिया व अवर सचिव विनोद कुमार मौजूद रहेंगे। 

ज्ञात हो कि दिल्ली के प्रगति मैदान में आयोजित 42वें विश्व व्यापार मेले में एक बार फिर परंपरा, क्राफ्ट, कला एवं संस्कृति  से सराबोर  14 नवंबर से 27 नवंबर  तक  प्रसिद्ध सरस आजीविका मेला 2023 का आयोजन प्रगति मैदान स्थित हॉल नंबर 7 (ए, बी, सी) में किया जा रहा है। केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय और राष्ट्रीय ग्रामीण विकास और पंचायती राज संस्थान (एनआईआरडीपीआर) द्वारा आयोजित इस सरस आजीविका मेला 2023 में ग्रामीण भारत की शिल्पकलाओं का मुख्य रूप से प्रदर्शन किया जा रहा है। 14 नवंबर से 27 नवंबर तक चलने वाले इस उत्सव में 300 के करीब महिला शिल्प कलाकार, 160 के करीब स्टॉलों पर अपनी अपनी उत्कृष्ट प्रदर्शनी का प्रदर्शन कर रहे हैं।

सरस आजीविका मेला के दौरान देश भर के 28 राज्यों के हजारों उत्पादों की प्रदर्शनी और बिक्री हो रही है। ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा यह एक मुहिम की शुरुआत की गई है जिससे कि हमारे देश के हस्तशिल्पियों और हस्तकारों को अपनी रोजगार शुरू करने का मौका मिल सके। 

सरस मेले में महाराष्ट्र के स्टेट कोआर्डिनेटर गजानन भोंसले बताते हैं कि इस बार महाराष्ट्र के कुल सात स्टॉल लगाए गए हैं। जिसमें चार हेंडीक्राफ्ट व हेंडलूम के स्टॉल हैं जबकि तीन फूड स्टॉल लगाए गए हैं। महाराष्ट्र के कोल्हापुर जिले से आई हुईं संत रोहीदास स्वयं सहायता समूह कि दीपाली सूर्यकांत  पोवार अपने स्टॉल नंबर 152 पर कोल्हापुरी चप्पलें लेकर आई हुईं हैं। कोल्हापुरी चप्पलों में सभी प्रकार के डिजाइन इनके पास उपलब्ध हैं जो कि लोगों को आकर्षित कर रही हैं। वहीं, महाराष्ट्र की सतारा जिले से आई हुईं सुरेखा जाधव बताती हैं कि उनके स्टल नंबर 131 पर ज्वार रोस्टेड मिलेट्स, रागी रोस्टेड मिलेट्स और बाजरा रोस्टेड मिलेट्स के काफी यूनिक आइटम लेकर आई हुईं हैं जो कि यहां लोगों को आकर्षित कर रही है औऱ लोग जमकर खरीदारी कर रही हैं।  वहीं, शाम को यहां सांस्कृतिक संध्या का भी आयोजन किया जा रहा है।

Comments

Popular posts from this blog

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ गोविंद जी द्वारा हार्ट एवं कैंसर हॉस्पिटल का शिलान्यास होगा

झूठ बोलकर न्यायालय को गुमराह करने के मामले में रिपब्लिक चैनल के एंकर सैयद सोहेल के विरुद्ध याचिका दायर

22 वें ऑल इंडिया होम्योपैथिक कांग्रेस का हुआ आयोजन