सर्दियों में हृदय को स्वस्थ रखने के लिए जीवनशैली में करें 5 परिवर्तन

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 18 नवंबर 2023, संपादकीय व्हाट्सएप 08803818844 नई दिल्ली। एक तरफ सर्दियों का मौसम बहुत सुहावना होता है, तो दूसरी तरह यह हृदय के लिए ज्यादा तनाव भी लेकर आता है। तापमान गिरने से रक्त संचार बनाए रखने और शरीर को गर्म रखने में हृदय को ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है। इस कारण कार्डियेक समस्याओं का जोखिम बढ़ जाता है। इसलिए सर्दियों में हृदय की सुरक्षा के लिए जीवनशैली में कुछ परिवर्तन किए जाने जरूरी होते हैं क्योंकि हृदय पर पड़ने वाले इस तनाव के कारण कार्डियेक प्रणाली में समस्याएं उत्पन्न होने की संभावना बढ़ जाती है।

डॉ. भूपेन्द्र सिंह, कंसलटेंट-कार्डियोलॉजी मणिपाल हॉस्पिटल, गाज़ियाबाद ने सर्दियों में हृदय को स्वस्थ रखने के लिए जीवनशैली में कुछ परिवर्तनों का सुझाव दिया है, जो निम्नलिखित हैंः

1. नियमित व्यायाम करेंः यदि सर्दी ज्यादा होने के कारण बाहर जाकर व्यायाम करना संभव न हो, तो घर में ही योगा और कसरत आदि करते रहें, ताकि शरीर में गतिविधि बनी रहे और हृदय स्वस्थ रहे।

2. स्वस्थ आहार बनाए रखेंः सूप, स्टू, और भुनी हुई सब्जियों के साथ गर्मागर्म आहार लें। आहार में फल, सब्जियाँ, साबुत अनाज और लीन प्रोटीन शामिल करें, जो हृदय को स्वस्थ रखते हैं।

3. नमक खाना कम करेंः सर्दियों में नमकीन खाना खाने की इच्छा ज्यादा होती है, पर ज्यादा नमक खाने से ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है। सर्दियों में ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने के लिए ज्यादा नमक का सेवन बिल्कुल भी न करें।

4. शरीर में गर्मी बनाकर रखेंः सर्दी से शरीर को बचाने के लिए गर्म कपड़े पहनकर रखें। हृदय पर तनाव को कम करने के लिए शरीर का गर्म रहना जरूरी है, ताकि सर्दियों के कारण ब्लड प्रेशर बढ़े नहीं। हृदय की सुरक्षा के लिए शरीर की गर्मी बनाए रखना महत्वपूर्ण होता है।

5. फ्लू से सुरक्षाः अगर हृदय की कोई समस्या हो, तो सर्दियों में किसी भी तरह के फ्लू से अपना बचाव करना जरूरी है क्योंकि इसकी वजह से गंभीर समस्याएं हो सकती हैं, जिनसे हृदय का स्वास्थ्य भी बिगड़ सकता है।

Comments

Popular posts from this blog

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ गोविंद जी द्वारा हार्ट एवं कैंसर हॉस्पिटल का शिलान्यास होगा

झूठ बोलकर न्यायालय को गुमराह करने के मामले में रिपब्लिक चैनल के एंकर सैयद सोहेल के विरुद्ध याचिका दायर

22 वें ऑल इंडिया होम्योपैथिक कांग्रेस का हुआ आयोजन