!सरस में उमड़ी भारी भीड़

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 25 नवंबर 2023, संपादकीय व्हाट्सएप 08803818844 नई दिल्ली।सरस आजीविका मेला 2023 में आज आखिरी वीक-डे व छुट्टी के दिन होने से भारी भीड़ रही, इसके साथ ही लोगों ने जमकर खरीदारी भी की। साथ ही सरस पवेलियन हॉल नंबर 7 (ए बी सी) में मिलने वाले दस पर्सेंट की छूट के कारण भी लोगों ने सरस मेले में अपने परिवार के साथ आए और न केवल खरीदारी। की बल्कि थकान के बाद सरस में चल रहे सांस्कृतिक संध्या का भी  आनंद लिया।  , यह छूट 27 नवंबर तक उपलब्ध रहेगा। राजस्थान के बीकानेर जिले से आई हुईं श्री आनंद राज महिला स्वयं सहायता समूह की तीजा देवी ने बताया कि मैं अपने स्टॉल नंबर 107 पर विभिन्न प्रकार के राजस्थानी अचार में आम का अचार, निंबू का अचार, मिक्स अचार, हरी मिर्च, लाल मिर्च, केर का अचार, लेसवा का अचार व केर सांगरी का अचार समेत आंवले का मुरब्बा, लहसन की चटनी, मंगोरी पापड़, गट्टा व नमकीन के सामान यहां उपलब्ध हैं। यहां लोग सौ रुपये से लेकर छह सौ रुपये तक के सामान खरीद रहे हैं। वहीं, भरतपुर जिले से आई हुईं ब्रिजेश भार्गव ने बताती हैं कि हमारे स्टॉल नंबर 63 पर जूट से बने हुए डोर मैट, टेबल मैट, योगा मैट, बैग, स्लिंग बैग, टोट बैग, क्लच पर्स, प्लांट कवर समेत तमाम सामान लोगों को इनकी स्टॉल पर आकर्षित कर रही है। 

साथ ही सरस में आप को बांसवारा जिले से आई हुईं शिव शंकर स्वयं सहायता समूह की पायल के स्टॉल नंबर 43 पर आप को विभिन्न आकार के तीर-कमान (आर्चरी) उपलब्ध हैं, जो कि विभिन्न डिजाइन में तैयार किए गए हैं। यहां पर आप को हजार रुपये से लेकर ढ़ाई हजार रुपये तक के तीर-कमान उपलब्ध हैं। इसके साथ ही आप इस स्टॉल पर पचास रुपये में छह लाइव सूट भी कर सकते हैं। राजस्थान की स्टेट कोआर्डिनेटर प्रिया सिंह ने बताया कि सरस मेले में राजस्थान से कुल 17 स्टॉल लगाए गए हैं। इसमें पांच जहां हेंडलूम के स्टॉल लगाए गए हैं वहीं, नौ हेंडीक्राफ्ट के स्टॉल हैं जबकि तीन स्टॉल फूड आइटम्स के हैं।

ज्ञात हो कि दिल्ली के प्रगति मैदान में आयोजित 42वें विश्व व्यापार मेले में एक बार फिर परंपरा, क्राफ्ट, कला एवं संस्कृति  से सराबोर  14 नवंबर से 27 नवंबर  तक  प्रसिद्ध सरस आजीविका मेला 2023 का आयोजन प्रगति मैदान स्थित हॉल नंबर 7 (ए, बी, सी) में किया जा रहा है। केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय और राष्ट्रीय ग्रामीण विकास और पंचायती राज संस्थान (एनआईआरडीपीआर) द्वारा आयोजित इस सरस आजीविका मेला 2023 में ग्रामीण भारत की शिल्पकलाओं का मुख्य रूप से प्रदर्शन किया जा रहा है। 14 नवंबर से 27 नवंबर तक चलने वाले इस उत्सव में 300 से अधिक महिला शिल्प कलाकार, 165 के करीब स्टॉलों पर अपनी अपनी उत्कृष्ट प्रदर्शनी का प्रदर्शन कर रहे हैं।

सरस आजीविका मेला के दौरान देश भर के 29 राज्यों के हजारों उत्पादों की प्रदर्शनी और बिक्री हो रही है। ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा यह एक मुहिम की शुरुआत की गई है जिससे कि हमारे देश के हस्तशिल्पियों और हस्तकारों को अपनी रोजगार शुरू करने का मौका मिल सके। 

Comments

Popular posts from this blog

सिंधी काउंसिल ऑफ इंडिया, दिल्ली एनसीआर रीजन ने किया लेडीज विंग की घोसणा

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ गोविंद जी द्वारा हार्ट एवं कैंसर हॉस्पिटल का शिलान्यास होगा

झूठ बोलकर न्यायालय को गुमराह करने के मामले में रिपब्लिक चैनल के एंकर सैयद सोहेल के विरुद्ध याचिका दायर