ऑर्किड्स द इंटरनेशनल स्कूल ने आईआईटी बॉम्बे टॉपर्स के साथ पायथन, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग पर मास्टरक्लास किया आयोजित

◆ गुड़गांव के सेक्टर 55, 41 और द्वारका 19 परिसरों में ऑर्किड्स ने उनके अब तक के सबसे बड़े टेक कार्निवल मेकैथलॉन 23 का आयोजन किया

शब्दवाणी समाचार, रविवार 3 रविवार 3 दिसम्बर 2023, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, गुरुग्राम। इनोवेशन और लर्निंग स्पिरिट  को बढ़ावा देने के लिए किये गए एक एक्साइटिंग कोलैबरेशन में, ऑर्किड द इंटरनेशनल स्कूल ने आईआईटी बॉम्बे की सोशल बॉडी  अभ्युदय के सहयोग से  कोडिंग पर एक मास्टरक्लास का आयोजन किया जिसमे आईआईटी बॉम्बे के टॉपर्स द्वारा प्रशिक्षण दिया गया। भारत की अग्रणी K12 स्कूल श्रृंखला, ऑर्किड्स द इंटरनेशनल स्कूल ने आज अपने सबसे बड़े राष्ट्रव्यापी टेक कार्निवल, मेकेथलोन 2023 का आयोजन किया जिसमे भारत भर के उनके छा त्रों की ब्रिलियंस,इनोवेशन और क्रिएटिविटी  की झलक नजर आई ।इसमें  पायथन, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग विषयों पर विशेष मास्टरक्लास आयोजित की गईं जिसका उद्देश्य  टेक्नोलॉजी की तेजी से विकसित हो रही दुनिया के लिए आवश्यक ज्ञान और कौशल के साथ युवा दिमाग को सशक्त बनाना था।

इस तीन दिवसीय कोडिंग शिविर ने प्रतिभागियों को एक अनूठा हैंड्स-ऑन एक्सपीरियंस प्रदान किया, जिससे उन्हें प्रोग्रामिंग,प्रॉब्लम-सॉल्विंग  और कम्प्यूटेशनल थिंकिंग की दुनिया को  गहराई से जानने का मौका मिला। इस इवेंट में  कोडिंग का डाइनामिक और एंगेजिंग नेचर नज़र आया  जिसके कारण इस इवेंट में हिस्सा लेने वाले छात्रों के लिए यह बहुत आसान और मनोरंजक बन गया। यह फेस्ट शुक्रवार 1 दिसंबर से रविवार 3 दिसंबर तक स्कूल के अलग-अलग कैम्पसों में आयोजित किया गया था, और इसमें कक्षा 5-10  के छात्रों को  तीन आयु समूहों में विभाजित किया गया था। ऑर्किड के छात्रों को कोडिंग एक्सरसाइज़ेस,  इंटरैक्टिव चैलेंजेस,और रियल-वर्ल्ड एप्लीकेशंस से अवगत कराया गया ताकि उनकी कोडिंग प्रिंसिपल्स की समग्र समझ को बढ़ावा मिले। यह मास्टरक्लास छात्रों के लिए ज्ञान और अनुभव का खजाना लेकर आई, जिसके कारण  एक प्रेरणादायक वातावरण तैयार हुआ ताकि क्रिएटिविटी और प्रॉब्लम-सॉल्विंग स्किल्स को बढ़ावा मिले। मास्टरक्लास ने कोलैबरेशन, क्रिटिकल थिंकिंग, और लॉजिकल रीज़निंग के महत्व पर भी जोर दिया। छात्रों को स्टेम साइंस, टेक्नोलॉजी, इंजीनियरिंग और मैथ्स )  में  उनकी रुचि का पता लगाने के लिए प्रोत्साहित किया गया और भविष्य में टेक्नोलॉजी और इनोवेशन में बेहतरीन  करियर की नींव रखी।

इस आयोजन में क्यूरियस यंग माइंडस  की भागीदारी के बारे में बताते हुए, सुधा राजमोहन, वीपी अकादमिक, ऑर्किड द इंटरनेशनल स्कूल कहती हैं,“हमारा ओसीएफपी पाठ्यक्रम छात्रों को स्टेम के बारे में प्रारंभिक जानकारी प्रदान करता है जो छात्रों के मैथ्स, फिजिक्स,  और केमिस्ट्री के ज्ञान के आधार को पोषित करेगा और उन्हें प्रेरित करेगा। मेकैथलॉन 2023 इंटलेक्ट, क्रिएटिविटी, और ज्ञान की निरंतर खोज का उत्सव रहा है। यह टेक फेस्ट समग्र शिक्षा के प्रति हमारे अटूट समर्पण का प्रमाण है। ऑर्किड में हमारा लक्ष्य  शिक्षा में उत्कृष्टता प्रदान करना है और छात्रों के लिए एक ऐसा  इनोवेटिव लर्निंग स्पेस का निर्माण करना है, जहां वे एक्सप्लोर कर सकें, इनोवेट कर सकें नवाचार और विकसित हो सकें। हर्ष गुप्ता, वी पी  स्टूडेंट वेलफेयर, ऑर्किड्स द इंटरनेशनल स्कूल  कहते हैं ऑर्किड्स द इंटरनेशनल स्कूल और आईआईटी बॉम्बे की सोशल बॉडी  अभ्युदय के बीच कोलैबरेशन इंडस्ट्री एक्सपर्टाइज और युवा लर्नर्स  को एक साथ लाकर एजुकेशनल एक्सपीरियंस को बेज्तर बनाने  की प्रतिबद्धता को दर्शाता है। इस  मास्टरक्लास को इस बात को सुनिश्चित करने के लिए डिज़ाइन किया गया था कि प्रतिभागी उनकी समझ के स्तर के अनुसार उपयुक्त कोडिंग कांसेप्ट्स का पता लगा सकें।

अभ्युदय, आईआईटी बॉम्बे के स्टूडेंट रिप्रेजेंटेटिव श्लोक ज़ंवर कहते हैं, “हमारा लक्ष्य भारत के युवाओं में सामाजिक जिम्मेदारी और नेतृत्व की भावना पैदा करना है। मास्टरक्लास आईआईटी बॉम्बे की सामाजिक संस्था अभ्युदय और ऑर्किड्स द इंटरनेशनल स्कूल की एक ऐसी अनूठी पहल थी, जिसका उद्देश्य छात्रों  को प्रेरित करना और समाज में बदलाव लाना था। ऑर्किड के द्वारा  अपनाए गए पाठ्यक्रम की गहराई और मास्टरक्लास में भाग लेने वाले इन छात्रों के कांसेप्ट्स की स्पष्टता देखकर हम  वास्तव में आश्चर्यचकित थे। टेक कार्निवल मेकेथलोन 2023 ने  एक ऐसी बहुआयामी शिक्षा की यात्रा शुरुआत की, जिसमें छात्रों को प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल्स बढ़ाने, जिज्ञासा और मौलिकता को बढ़ावा देने और प्रेक्टिकल सेटिंग्स में मेथेमेटिकल और साइंटिफिक अवधारणाओं का उपयोग करने में सक्षम बनाया गया। छात्रों ने प्रतियोगिताओं की सीरिज़  में भाग लिया। इन प्रतियोगिताओं के थीमेटिक नाम दिए गए थे - जूनियर आइंस्टीन और आर्यभट्ट मॉडल मेकिंग । साथ ही उन्होंने केस स्टडी प्रतियोगिता और क्विज़ में भी हिस्सा लिया।  टेक कार्निवल में छात्रों ने उत्साह के साथ उनके द्वारा बनाए  वर्किंग मॉडल्स का प्रदर्शन भी किया, जो रोजमर्रा के जीवन की चुनौतियों का सामना करने के लिए  ज्ञान का उपयोग करने की क्षमता को दर्शा रहे थे।

Comments

Popular posts from this blog

सिंधी काउंसिल ऑफ इंडिया, दिल्ली एनसीआर रीजन ने किया लेडीज विंग की घोसणा

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ गोविंद जी द्वारा हार्ट एवं कैंसर हॉस्पिटल का शिलान्यास होगा

झूठ बोलकर न्यायालय को गुमराह करने के मामले में रिपब्लिक चैनल के एंकर सैयद सोहेल के विरुद्ध याचिका दायर