साइकिल प्योर ने 111 फीट की अगरबत्ती का किया अनावरण, शिल्प कौशल का सम्मान बढ़ेगा

शब्दवाणी समाचार, बुधवार 24 जनवरी 2024, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, नई दिल्ली। भारत की सबसे बड़ी अगरबत्ती निर्माता साइकिल प्योर अगरबत्ती ने स्थानीय शिल्प कौशल की समृद्ध परंपरा के सम्‍मान स्‍वरूप 111 फीट की विशाल अगरबत्ती का अनावरण करके गगनमंडल को सुशोभित किया है। यह भावविभोर करने वाली घटना विविध शिल्‍पकारी विरासत का समर्थन करने और उसकी कीर्ति को जन-जन तक पहुंचाने के लिए हमारी हार्दिक प्रतिबद्धता के रूप में, सांस्कृतिक रूप से जीवंत तीन स्थानों अर्थात् मैसूरु, महाराष्ट्र और गोवा में एक साथ हुई। इस अवसर पर प्रसिद्ध मूर्तिकार अरुण योगीराज की माता सरस्वती ने सम्मानित गण्यमान्य व्यक्तियों, प्रताप सिम्हा, सांसद, मैसूर-कोडागु, और टी.एस. श्रीवत्स, विधायक, कृष्णराज की उपस्थिति में अगरबत्‍ती को अग्नि प्रज्ज्वलित किया। रंगा परिवार जिसमें श्री गुरु, किरण रंगा, विष्णु रंगा, अनिरुद्ध रंगा और निखिल रंगा ने अवसर की शोभा बढ़ाते हुए हमारी विरासत और पारंपरिक कला रूप को संरक्षित करने के लिए ब्रांड की प्रतिबद्धता को दर्शाया। 

महाराष्ट्र में, माननीय मुख्यमंत्री  एकनाथ संभाजी शिंदे ने राज्य के समृद्ध शिल्प कौशल का कीर्तिगान किया, जबकि गोवा में, माननीय मुख्यमंत्री, प्रमोद सावंत ने क्षेत्र की अनूठी कलात्मक अभिव्यक्तियों को संरक्षित करने और उसे बढ़ावा देने पर बल दिया। साइकिल प्योर अगरबत्ती की 111 फीट लंबी उ‍त्तम रचना, आधुनिक तकनीक और पारंपरिक कला रूप का साक्षी है। इस विशाल अगरबत्ती को 18 कुशल कारीगरों के एक समर्पित दल द्वारा 23 दिनों में तैयार किया गया था, जिसमें विशेषरूप से हाथ से चुने गई पवित्र दशङा: शहद, कोनेरी गेडे, घी, चंदन की लकड़ी का पाउडर, गुग्गुला, अगरु, सांब्रानी, देवदारु, लोबन और सफेद सरसों के साथ-साथ चारकोल, जिगत और गुड़ जैसे सामग्रियों का उपयोग किया गया था। विनिर्माण प्रक्रिया में, एनआरआरएस विशेषज्ञों के दल द्वारा तैयार की गई एक अनूठी तकनीक का प्रयोग किया गया। 

सुश्री सरस्वती ने आभार व्यक्त करते हुए कहा हमारे परिवार की पीढ़ियां इस कला के प्रति समर्पित रही हैं, और यह देखकर वास्तव में खुशी होती है कि साइकिल प्‍योर अगरबत्‍ती हमारे काम को सहायता और मान्‍यता प्रदान करने में सक्रिय भूमिका निभा रही है। यह सम्‍मान एक साधारण सत्‍कार से कहीं बड़ा है; यह एक गहरी प्रतिबद्धता का प्रतीक है जो न केवल हमारे परिवार के लिए बल्कि पूरे कलात्मक समुदाय के लिए अत्यधिक महत्‍व रखता है। कार्यक्रम के दौरान, एनआर ग्रुप के चेयरमैन श्री गुरु ने कहा, आध्यात्मिकता से जुड़े एक ब्रांड के रूप में, हमारी निरंतर प्रतिबद्धता, शिल्‍पकारों के समुदाय का समर्थन करना है। हमारा लक्ष्य लोगों के जीवन में आशा का स्रोत बनना है, और यह 111 फीट की अगरबत्ती उस प्रतिबद्धता का प्रतीक है, जो शिल्प कौशल की दुनिया में अपनी सुगंध के माध्यम से खुशियों का संचार करती है।'

Comments

Popular posts from this blog

सिंधी काउंसिल ऑफ इंडिया, दिल्ली एनसीआर रीजन ने किया लेडीज विंग की घोसणा

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ गोविंद जी द्वारा हार्ट एवं कैंसर हॉस्पिटल का शिलान्यास होगा

झूठ बोलकर न्यायालय को गुमराह करने के मामले में रिपब्लिक चैनल के एंकर सैयद सोहेल के विरुद्ध याचिका दायर