ग्लोबल साइबरसिक्योरिटी एसोसिएशन ने देश को सुरक्षित करने के अपने मिशन का किया अनावरण

  साइबर सुरक्षित बनाने के प्रयास में ग्लोबल साइबरसिक्योरिटी एसोसिएशन ने किया जीसीए इंडैक्स लॉन्च

शब्दवाणी समाचार, बुधवार 14 फरवरी 2024, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, नई दिल्ली। जानी-मानी गैर लाभ संस्था ग्लोबल साइबरसिक्योरिटी एसोसिएशन ने  नई दिल्ली में आयोजित एक सम्मेलन ‘एम्पावरिंग साइबर सिक्योरिटीः ब्रिगिंग यूथ, इंडस्ट्री सिटिज़न एण्ड गवर्नमेन्ट ऑन अ कॉमन प्लेटफॉर्म’ के दौरान ‘जीसीए इंडैक्स’ के लॉन्च की घोषणा की। अपनी तरह का पहला यह इंडैक्स एक भरोसेमंद स्रोत की तरह विभिन्न यूज़ केजे़ज तथा मार्केट में उपलब्ध प्रोडक्ट्स, सर्विसेज़ एवं समाधानों पर रोशनी डालेगा। जीसए का उद्देश्य भारत के प्रमुख साइबरसिक्योरिटी एडवोकेट के रूप में व्यक्तियों एवं संगठनों को ऐसे भरोसेमंद संसाधन उपलब्ध कराना है, जो साइबर सिक्योरिटी के सभी पहलुओं को सुनिश्चित करें और विभिन्न टूल्स के ज़रिए उन्हें पूर्ण सुरक्षा दें। यह व्यक्तियों और संगठनों को डिजिटल सुरक्षा के मुख्य पहलुओं को नियन्त्रित करने में सक्षम बनाएगा। क्योंकि औसतन 76 करोड़ नागरिकों के साथ रोज़ाना तकरीबन 40 करोड़ ई-लेनदेन किए जाते हैं। (स्रोतः मैटी की सालाना रिपोर्ट 2022-23 क अनुसार) 

जीसीए इंडैक्स के लॉन्च पर बात करते हुए डॉ गुलशन राय, पूर्व नेशनल साइबरसिक्योरिटी को-ऑर्डिनेटर एवं पूर्व डीजी, CERT-In ने कहा, भारत 2021 के बाद से सफलतापूर्वक 10वें स्थान पर है, हालांकि ग्लोबल साइबरसिक्योरिटी एसोसिएशन के आने के बाद, हमें इस रैंकिंग के बेहतर होने की उम्मीद हैं इसके लिए हमें आने वाले समय में आईटी और ओटी के इंटरफेस के प्रबन्धन से जुड़े सभी महत्वपूर्ण मुद्दों को हल करना होगा। अगर हम आज इस पर काम नहीं करते, तो आने वाले समय में हम बढ़ते साइबर खतरों को प्रबन्धन नहीं कर पाएंगे। यह हमारी सामुहिक ज़िम्मेदारी है और जीसीए सरकार एवं नागरिकों के लिए मार्गदर्शक की तरह काम करते हुए भारत को साइबरसुरक्षित बनाने में कारगर होगा। ‘जीसीए इंडैक्स का लॉन्च भारत को साइबर सुरक्षित बनाने की दिशा में पहला कदम है। इस अवसर पर श्री राजीव भदौरिया, अडवाइज़र, रिलायन्स एडीए ग्रुप ने कहा, ‘‘मनुष्य की भावनाएं आज भी पुरपाषणा काल में हैं, जबकि संस्थाएं मध्ययुगीन काल में हैं और हमें भगवान जैसी टेक्नोलॉजी का सामना करना है। ऐसे में जीसीए सही समय पर लाया गया है क्योंकि इसे प्यार, बुद्धि एवं विवेक के साथ इसी टेक्नोलॉजी का मुकाबला करना है। साइबरसिक्योरिटी नई चीज़ है, हमने पर्याप्त विकास किया है, वर्तमान में हम जनरेशन-एआई की उम्मीद कर रहे हैं, ऐसे में खतरा और भी बड़ा हो गया है।

इस अवसर पर मनोज भाले, प्रेज़ीडेन्ट, ग्लोबल साइबरसिक्योरिटी एसोसिएशन ने कहा सुरक्षित डिजिटल भारत के निर्माण के लिए हमें एकजुट होकर काम करना होगा। सुलभ संसाधानो, आपसी सहयोग और जीसीए इंडैक्स के साथ हम हितधारकों को ऐसे टूल्स और ज़रूरी ज्ञान उपलब्ध कराना चाहते हैं ताकि वे साइबर खतरों से निपट सकें। रूपाली मेहता, सदस्य, गवर्निंग काउन्सिल, ग्लोबल साइबर सिक्योरिटी एसोसिएशन ने कहा, ‘‘भारत की डिजिटल यात्रा में ढेरों संभावनाएं और संवेदनशीलताएं हैं। जीसीए साइबरसुरक्षा के बारे में जागरुकता बढ़ाने में कारगर होगा। हम विशेषज्ञों को हमारी डिजिटल सीमाओं के संरक्षक बनाकर डिजिटल नागरिकों को सशक्त बनाना चाहते हैं। जीसीए इंडैक्स व्यक्तियों और संगठनों को ऐसा मंच उपलब्ध कराता है, जिसके माध्यम से वे साइबरसुरक्षा के भरोसेमंद समाधानों को पहचान सकते हैं। यह उन्हें सोच-समझ कर फैसला लेने और साइबर सुरक्षा के लिए उचित उपाय अपनाने के लिए प्रोत्साहित करता है। 

जीसीए इंडैक्स के लिए आवेदन खुल चुके हैं, पहले लिस्टिंग सेट की घोषणा अगस्त 2024 में होगी। हम साइबरसिक्योरिटी प्रोडक्ट्स, समाधानों एवं सर्विस संगठनों को आमंत्रित करते हैं कि इस अनूठी पहल के लिए आवेदन कर इसके साथ जुड़ें। अगले तीन सालों में जीसीए ने साइबरसुरक्षा की भरोसेमंद जानकारी एवं सर्वश्रेष्ठ प्रथाओं क साथ अपने आप को नेशनल हब के रूप में स्थापित करने का लक्ष्य तय किया है। साथ ही यह भारतीय साइबरसिक्योरिटी कम्युनिटीमें आपसी सहयोग एवं जानकारी के आदान-प्रदान में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। यह भरोसेमंद अडवाइज़र के रूप में व्यक्तियों और संगठनों को सशक्त बनाने तथा प्रभावी साइबरसिक्योरिटी नीतियों के साथ भारत के डिजिटल दृष्टिकोण को साकार करने के लिए प्रयासरत है।

Comments

Popular posts from this blog

सिंधी काउंसिल ऑफ इंडिया, दिल्ली एनसीआर रीजन ने किया लेडीज विंग की घोसणा

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ गोविंद जी द्वारा हार्ट एवं कैंसर हॉस्पिटल का शिलान्यास होगा

झूठ बोलकर न्यायालय को गुमराह करने के मामले में रिपब्लिक चैनल के एंकर सैयद सोहेल के विरुद्ध याचिका दायर