मेटा लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड 2024 से राम गोपाल बजाज को सम्मानित किया जाएगा

● मेटा 2024 जूरी में डॉली ठाकोर, कुलभूषण खरबंदा, कुसुम हैदर, महेश दत्तानी, रघुवीर यादव, स्मृति राजगढ़िया और विनय पाठक शामिल हैं।

● नामांकित नाटक 14 से 20 मार्च, 2024 तक दिल्ली में मेटा फेस्टिवल में प्रदर्शित किए जाएंगे।

शब्दवाणी समाचार, वीरवार 7 मार्च 2024, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, नई दिल्ली। महिंद्रा एक्सीलेंस इन थिएटर अवार्ड्स (मेटा) और फेस्टिवल 2024 ने आज घोषणा की कि मेटा 2024 लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड प्रसिद्ध भारतीय मंच, फिल्म और टेलीविजन अभिनेता,निर्देशक राम गोपाल बजाज को प्रदान किया जाएगा, जिन्हें 20 मार्च 2024 को कमानी ऑडिटोरियम में पुरस्कार समारोह के दौरान सम्मानित किया जाएगा। टीमवर्क आर्ट्स और महिंद्रा ग्रुप ने ताज महल होटल, नई दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान यह सुचना दी। इस दौरान मेटा 2024 के इस साल की जूरी  सदस्यों की भी घोषणा की गयी।  इस बार के जूरी सदस्यों में भारतीय थिएटर अभिनेत्री, कास्टिंग निर्देशक और लेखक डॉली ठाकोर; प्रसिद्ध भारतीय अभिनेता कुलभूषण खरबंदा; अनुभवी थिएटर निर्देशक और अभिनेत्री कुसुम हैदर; प्रख्यात निर्देशक, अभिनेता, प्रशंसित नाटककार और लेखक महेश दत्तानी; प्रसिद्ध भारतीय अभिनेता, संगीतकार, गायक और सेट डिजाइनर रघुवीर यादव; सेरेन्डिपिटी आर्ट्स फाउंडेशन और सेरेन्डिपिटी आर्ट्स फेस्टिवल की निदेशक स्मृति राजगढ़िया; मशहूर थिएटर और फिल्म अभिनेता विनय पाठक शामिल हैं ।

महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड के सांस्कृतिक आउटरीच प्रमुख जय शाह ने कहा, " जैसा कि हम मेटा के 19वें संस्करण की तैयारी कर रहे हैं, भारतीय रंगमंच के क्षेत्र में एक और महत्वपूर्ण अवसर होने की उम्मीद बढ़ गई है।  अनेक कलात्मक अभिव्यक्तियों के आधार, रंगमंच को पोषित करने की हमारी प्रतिबद्धता से उल्लेखनीय परिणाम मिले हैं, प्रत्येक गुजरते वर्ष में थिएटर एक्सीलेंस का एक अद्वितीय प्रदर्शन देखने को मिल रहा है।  मेटा हमारे देश की सांस्कृतिक मोज़ेक के एक जीवंत प्रतिबिंब के रूप में कार्य करता है, जो भाषा की समृद्धि, विषयों की विविधता और शैलियों की व्यापकता का जश्न मनाता है।  जैसे-जैसे हम किशोरावस्था के अंतिम वर्षों में पहुँचते हैं,  मेटा कलात्मक सरलता के एक प्रतीक के रूप में खड़ा होता है, जो हमारे देश की रचनात्मक भावना का सार प्रस्तुत करता है।  हम उत्सुकता और गर्व की भावना के साथ इस फेस्टिवल का बेसब्री से इंतजार करते हैं।

संजॉय  के. रॉय, प्रबंध निदेशक, टीमवर्क आर्ट्स एवं  फेस्टिवल प्रोड्यूसर, ने कहा, " 2024 के लिए चुनी गयी  मेटा जूरी  देशभर से सर्वश्रेष्ठ कला का प्रतिनिधित्व करते हैं  और इसमें अभिनेता, लेखक, डॉली ठाकोर, फिल्म और थिएटर अभिनेता और मनोचिकित्सक - डॉ. कुलभूषण खरबंदा, अभिनेता - कुसुम हैदर, लेखक, निर्देशक -महेश दत्तानी, फिल्म और थिएटर अभिनेता - रघुवीर यादव, सेरेन्डिपिटी फेस्टिवल के निदेशक और प्रबंध ट्रस्टी - स्मृति राजगढ़िया  और अभिनेता - विनय पाठक शामिल हैं। ये सम्मानित जूरी सदस्य सप्ताह भर  10 सर्वश्रेष्ठ नामांकित नाटकों को देखेंगे और 20 मार्च की शाम को  इस वर्ष के विजेताओं की घोषणा होगी एवं विभिन्न श्रेणियो में पुरस्कार दिए जायेंगे।

यह  घोषणा 14 से 20 मार्च, 2024 तक नई दिल्ली के कमानी ऑडिटोरियम और श्री राम सेंटर में आयोजित होने वाले एवं सप्ताह भर तक  चलने वाले महिंद्रा एक्सीलेंस इन थिएटर अवार्ड्स (मेटा) और फेस्टिवल से पहले हुईं है। मेटा 2024 के 10  शॉर्टलिस्ट किए गए नाटकों का प्रदर्शन  सम्मानित जूरी सदस्यों एवं देश की राजधानी में  इस फेस्टिवल का बेसब्री से इन्तजार करने वाले थिएटर-प्रेमीयों के लिए किया जाएगा। हमेशा की तरह, इस वर्ष भी फेस्टिवल के नाटक  विभिन्न सामाजिक मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करेंगे इनमें  महाकाव्य कहानियों, उत्पीड़न और अधिनायकवाद, विरोध और विद्रोह, लिंग और पहचान, कलाकार की पवित्रता,नैतिकता, साहसिकता और धैर्य की शक्तिशाली पुनर्कथन आदि जवलंतशील विषय शामिल हैं । हर साल की तरह, मेटा फेस्टिवल को  असमिया, बांग्ला, अंग्रेजी, हिंदी, हिंदुस्तानी, मलयालम और मराठी जैसी भाषाओं का प्रतिनिधित्व करने वाली 390 से अधिक प्रविष्टियाँ प्राप्त हुईं।

थिएटर उद्योग पर अपने विचार साझा करते हुए रघुवीर यादव ने कहा थिएटर का दिल हमेशा धड़कता रहेगा। रुझान बदल सकते हैं, स्क्रीन बढ़ सकती हैं, लेकिन लाइव प्रदर्शन का रोमांच अपूरणीय है। डॉली ठाकोर ने कहा मैं इस साल मेटा के लिए जूरी में शामिल होकर बहुत रोमांचित हूं। मेटा मेरे सबसे पसंदीदा थिएटर फेस्टिवल में से एक है। यहां ऐसा महसूस होता है कि विभिन्न भाषाओं में प्रतिभा का जबरदस्त प्रदर्शन होता है। इस वर्ष लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड के प्राप्तकर्ता राम गोपाल बजाज भारतीय रंगमंच की एक प्रतिष्ठित हस्ती हैं। एक थिएटर निर्देशक, हिंदी फिल्म अभिनेता और नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा के पूर्व निदेशक के रूप में प्रसिद्ध, बजाज के शानदार करियर ने उन्हें नाटकीय कला में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए 1996 में पद्म श्री और 2003 में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार सहित कई पुरस्कार दिलाए हैं। पिछले वर्षों में, मेटा लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार भारतीय रंगमंच के कई दिग्गजों को प्रदान किया गया है, जिनमें स्वर्गीय बादल सरकार (2010), स्वर्गीय जोहरा सहगल (2011), स्वर्गीय खालिद चौधरी (2012), स्वर्गीय ई. अल्काज़ी (2013), स्वर्गीय गिरीश कर्नाड (2014), स्वर्गीय हेसनाम कन्हाई लाल (2015), रतन थियाम (2016), स्वर्गीय अरुण काकड़े (2017), विजया मेहता (2018), महेश एलकुंचवार (2019), बैरी जॉन (2020), सुषमा सेठ (2023) .

Comments

Popular posts from this blog

सिंधी काउंसिल ऑफ इंडिया, दिल्ली एनसीआर रीजन ने किया लेडीज विंग की घोसणा

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ गोविंद जी द्वारा हार्ट एवं कैंसर हॉस्पिटल का शिलान्यास होगा

झूठ बोलकर न्यायालय को गुमराह करने के मामले में रिपब्लिक चैनल के एंकर सैयद सोहेल के विरुद्ध याचिका दायर