विज्ञापनों के नियमों को सख्ती से लागू करने के लिए सीसीपीए और एएससीआई ने किया साझेदारी

◆  इस कदम से भ्रामक और झूठे विज्ञापनों पर रोक लगने और विज्ञापनों के नियम लागू करने में मदद मिलने की उम्मीद है

शब्दवाणी समाचार, बुधवार 27 मार्च 2024, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, नई दिल्ली। उपभोक्ता मामलों के विभाग (डीओसीए) और भारतीय विज्ञापन मानक परिषद (एएससीआई) दोनों उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा करने के समान लक्ष्य को हासिल करने के लिए काम करते हैं। एएससीआई और केंद्रीय उपभोक्ता संरक्षण प्राधिकरण (सीसीपीए) दोनों के मिशन का केंद्रीय तत्व भ्रम फैलाने वाले, गुमराह करने वाले और झूठे दावे करने वाले विज्ञापनों के मामले में उपभोक्ता के हितों का संरक्षण करना है। गौरतलब है कि विज्ञापन के क्षेत्र में एएससीआई के कोड और उससे जुड़े दिशानिर्देश केंद्रीय उपभोक्ता संरक्षण प्राधिकरण (सीसीपीए) की कई गाइडलाइंस से तालमेल रखते हैं। इसमें गुमराह करने वाले विज्ञापनों, डार्क पैटर्न, विज्ञापनों के प्रसार में शामिल सेलिब्रिटीज, कोचिंग संस्थाओं, किसी प्रॉडक्ट के इस्तेमाल से स्वच्छ पर्यावरण को बढ़ावा मिलने के झूठे दावे और अन्य मामलों से संबंधित दिशा-निर्देश शामिल हैं। एएससीआई और सीसीपीए की भागीदारी में सीसीपीए ने यह पहचान की है कि एएससीआई की किसी संहिता का उल्लंघन संभावित रूप से उपभोक्ता संरक्षण कानून 2019 और उससे संबंधित दिशानिर्देशों का उल्लंघन भी हो सकता है। 

इसलिए सीसीपीए ने एएससीआई से किसी भी ऐसे गुमराह करने वाले विज्ञापनों को उचित कार्रवाई के लिए उसके पास आगे भेजने का अनुरोध किया है, जो एएससीआई के कोड का पालन नहीं करते और इनसे संभावित रूप से उपभोक्ता संरक्षण कानून 2019 और उससे संबंधित गाइडलाइंस का उल्लंघन हो सकता है। एएससीआई की ओर से उठाए गए झूठे दावे करने वाले विज्ञापनों पर सीसीपीए द्वारा उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019 के प्रावधानों के अनुसार सख्ती से प्रभावी कार्रवाई की जाएगी।  विज्ञापनों के क्षेत्र में, खासतौर से डिजिटल विज्ञापनों की बढ़ती जटिलता के बीच यह भागीदारी काफी महत्वपूर्ण हो गई है। उपभोक्ता मामलों के विभाग के सचिव श्री रोहित कुमार सिंह ने कहा, “एएससीआई कोड और सीसीपीए की गाइडलाइंस विज्ञापनों में तालमेल पारदर्शिता और निष्पक्षता को बढ़ावा देने के सामूहिक प्रयास को उभारती है। सीसीपीए और एएससीआई समान लक्ष्यों के साथ यह सुनिश्चित करने के लिए पूरक तरीकों से काम कर सकते हैं कि किसी भी तरह के उल्लंघन से प्रभावी तरीके से सख्ती से निपटा जाए। डिजिटल विज्ञापनों से नई चुनौतियां सामने आई हैं। डिजिटल विज्ञापन की रफ्तार से तालमेल रखने के लिए समान विचारधारा वाले निकायों के बीच सहयोग की जरूरत है। इस क्षेत्र में नियामकों का स्वनियामकों के साथ मिलकर काम करना एक बेहतरीन तरीका है, जो अब स्थापित हो चुका है। हमें उम्मीद है कि इस भागीदारी से भारतीय विज्ञापनों का नियमन और प्रभावी होगा। जिन विज्ञापनों के प्रचार और प्रसार में सीसीपीए की गाइडलाइंस का स्वैच्छिक रूप से पालन नहीं हो रहा है और जो विज्ञापनदाता इन दिशा-निर्देशों का बार-बार उल्लंघन कर रहे हैं, उन पर सीसीपीए को जुर्माना लगाने या उनके खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई करने का अधिकार है। हम जरूरत के मुताबिक उपभोक्ता संरक्षण कानून के प्रावधानों को लागू करने से पीछे नहीं हटेंगे।

एएससीआई की महासचिव और सीईओ मनीषा कपूर ने कहा, “हमें उपभोक्ता मामलों के विभाग (डीओसीए) और केंद्रीय उपभोक्ता संरक्षण प्राधिकरण (सीसीपीए) के साथ कई मुद्दों पर आपसी भागीदारी से काम कर रहे हैं। हम इस संबंध को और गहरा और मजबूत बनाकर वाकई काफी खुशी हो रही है। भारतीय विज्ञापन मानक परिषद (एएससीआई) को विज्ञापनों के नियमन में गहरी विशेषज्ञता हासिल है। हम सीसीपीए और डीओसीए को उनके विश्वास और सहयोगी रवैये के लिए धन्यवाद देते हैं। मजबूत स्वनियमन की व्यवस्था सभी हितधारकों की मदद करती है और यह भागीदारी स्वनियमन को अगले स्तर तक ले जाने का सकारात्मक कदम है। हाल ही में डीओसीए और एएससीआई ने विज्ञापनों से संबंधित कई मुद्दों पर संयुक्त रूप से विचार-विमर्श और भागीदारी की है। इनमें किसी सेलेब्रिटी की ओर से किए जाने वाले विज्ञापनों के प्रचार और प्रसार की गाइडलाइंस बनाना, स्वच्छ पर्यावरण के झूठे दावे रखने वाले विज्ञापनों को नियंत्रित करने, ग्राहक को गुमराह कर खरीदारी के ऑफर देने, सरकारी नियमों के तहत प्रतिबंधित विज्ञापनों, जैसे सिगरेट और शराब के मामले में उसी कंपनी के किसी मिलते-जुलते प्रॉडक्ट का विज्ञापन (सरोगेट एडवरटाइजिंग) जैसे कई मुद्दे शामिल थे। इससे इन मुद्दों पर इंडस्ट्री, नागरिक समाज के प्रतिनिधियों और नियामकों को गहन विचार-विमर्श करने और आपसी तालमेल बनाने का मौका मिला। दुनिया भर में विज्ञापनों के स्वनियामक औपचारिक और अनौपचारिक तरीके से सरकार के साथ सह-नियमन के मॉडल के तहत काम करते हैं। आजकल विज्ञापनों की जटिल दुनिया और इंटरनेट पर सीमाओं की बंदिश न होने से किसी रेगुलर कंटेंट पर क्लिक करने से किसी दूसरे अनचाहे प्रॉडक्ट के विज्ञापन जबरन उपभोक्ताओं को दिखाने, डीपफेक और घोटालों के मामले सामने आ रहे हैं। इस तरह के माहौल में विज्ञापनों के प्रभावी ढंग से नियमन के लिए ऐसी भागीदारी काफी अहमियत रखती है।

Comments

Popular posts from this blog

सिंधी काउंसिल ऑफ इंडिया, दिल्ली एनसीआर रीजन ने किया लेडीज विंग की घोसणा

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ गोविंद जी द्वारा हार्ट एवं कैंसर हॉस्पिटल का शिलान्यास होगा

झूठ बोलकर न्यायालय को गुमराह करने के मामले में रिपब्लिक चैनल के एंकर सैयद सोहेल के विरुद्ध याचिका दायर