62 प्रतिशत मॉडर्न इंजीनियर्स को एआई से करियर में वृद्धि होने की उम्‍मीद और 52 प्रतिशत ने माना इससे बढ़ेगी उनकी उत्‍पादकता : ईपैम और सीएमआर की एआई इंजीनियरिंग स्‍टडी में हुआ खुलासा

शब्दवाणी समाचार, रविवार 23 जून 2024, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, नई दिल्ली। एआई और जनरेटिव एआई के नेतृत्‍व वाली टेक्‍नोलॉजी मॉडर्न बिजनेस के भविष्‍य को बदल रही है, और हर सेक्‍टर इसकी मदद से अपनी क्षमता का दोहन करना चाहता है। हालांकि, इस टेक्‍नोलॉजी क्रांति के पीछे, मॉडर्न इंजीनियर्स हैं जो इस बदलाव में सबसे आगे हैं। प्रमुख वैश्विक डिजिटल ट्रांसफोर्मेशन सर्विस और प्रोडक्‍ट इंजीनियरिंग कंपनी, ईपैम सिस्‍टम्‍स इंक  (ईपैम), और साइबर मीडिया रिसर्च (सीएमआर) ने एआई और जनरेटिव एआई पर मॉर्डन इंजीनियर्स की दृष्टिकोण को बेहतर ढंग से समझने के लिए एक संयुक्‍त स्‍टडी की है। स्‍टडी में 25 वर्ष और उससे अधिक उम्र के 800 से अधिक मॉडर्न इंजीनियर्स को शामिल किया गया, जिसमें डेटा इंजीनियरिंग, एनालिटिक्‍स, प्रोडक्‍ट एंड प्‍लेटफॉर्म इंजीनियरिंग, क्‍लाउड ट्रांसफॉर्मेशन एंड माइग्रेशन, टेस्टिंग, डिजिटल एक्‍सपीरियंस इंजीनियरिंग, एआई प्रोम्‍प्‍ट इंजीनियरिंग और अन्‍य शीर्ष कौशल शामिल हैं। यह सर्वे भारत के प्रमुख उन आठ शहरों में किया गया, जहां मॉडर्न इंजीनियर्स की संख्‍या सबसे ज्‍यादा है। मॉडर्न इंजीनियर्स का मानना है कि एआई कामों को ऑटोमैटिक बनाकर और दक्षता बढ़ाकर रोजमर्रा के कामों में काफी सुधार कर सकता है: 

एआई ने अधिकांश मॉडर्न इंजीनियर्स (60%) के लिए निरंतर सीखने और विकास के अवसर प्रदान किए हैं।  

47% ने माना एआई इंटीग्रेशन ने टीम कम्‍यूनिकेशन और सहयोग को बढ़ावा दिया है। 44%  का कहना है कि एआई से डेटा-संचालित निर्णय लेने में स्‍पष्‍टता आई है और 37% ने कहा कि मौजूदा वर्कफ्लो में एआई को सीमलेस्ली शामिल करना एक चुनौती है।  

41% मॉडर्न इंजीनियर्स को लगता है कि वर्तमान एआई ट्रेनिंग संसाधन अपर्याप्‍त हैं। 44% को लगता है कि इससे नौकरी की सुरक्षा को लेकर चिंता बढ़ रही है। 76% को लगता है कि उनका संगठन प्रोफेशनल डेवलपमेंट के लिए एआई रिसोर्स और लर्निंग प्‍लेटफॉर्म तक पहुंच उपलब्‍ध कराएंगे। 

50% मॉडर्न इंजीनियर्स का मानना है कि उनके संगठन द्वारा निर्धारित किए गए एआई प्रोटोकॉल एआई-संचालित निर्णयों पर मानव जवाबदेही और नियंत्रण को सुनिश्चित करते हैं। 56% ने कहा कि वह पारदर्शी निर्णय लेने के लिए एक्सप्लेनेबल एआई को पसंद करते हैं।  

इसके अलावा, रिपोर्ट कुछ और खुलासे भी करती है : 

एआई गलतियों को कम करके और डेटा इंटरप्रिटेशन को बढ़ाकर निर्णय लेने की क्षमता में सुधार करता है, फ‍िर भी सटीकता सुनिश्चित करने के लिए मानव निगरानी की आवश्‍यकता है। 

एआई के पास इंजीनियरिंग वर्कफ्लो में बदलाव लाने की क्षमता है, जो निरंतर सीखने के अवसर प्रदान करता है और मूल्‍यवान डेली असिस्‍टैंट के रूप में काम करता है। समस्‍या के समाधान, डीबगिंग और वर्कफ्लो दक्षता पर इसका स्‍पष्‍ट प्रभाव इसकी जॉब मार्केट प्रासंगिकता और इंजीनियर्स को निरंतर अपनाने और सीखने की जरूरत पर प्रकाश डालता है।  

एआई रचनात्‍मक समस्‍या-समाधान के लिए एक उत्‍प्रेरक के रूप में काम करता है, ऐसे वैकल्पिक दृष्टिकोण और समाधान प्रदान करता है जिनके बारे में इंजीनियर्स शुरुआत में विचार नहीं कर सकते, इससे उनके काम की गुणवत्‍ता और प्रासंगिकता दोनों में वृद्धि होती है। 

एक मान्‍यता है कि एआई बहुत सारे काम करेगा, जिससे संभावितरूप से कुछ नौकरियां अप्रचलित हो जाएंगी और कार्यबल में एक महत्‍वपूर्ण बदलाव लाएगा।  

इंजीनियरिंग इंडस्‍ट्री में एआई का एकीकरण रोजगार सृजन और जॉब कटिंग दोनों के संदर्भ में महत्‍वपूर्ण बदलाव लाने के लिए तैयार है। एआई/एमएल मॉडल मॉनिटरिंग, डेटा एनालिसिस और क्रॉस-फंक्‍शनल टीमों के गठन पर केंद्रित भूमिकाएं उभरने का अनुमान है। 

रिपोर्ट को लॉन्‍च करते हुए, सुश्री इलैना शेख्टर, चीफ मार्केटिंग एंड स्‍ट्रेट्जी ऑफ‍िसर, ईपैम ने कहा, “ईपैम में, हम एआई को मॉडर्न इंजीनियर्स के लिए एक गेम-चेंजर के रूप में देखते हैं, और सर्वे के परिणाम इस बात की पुष्टि करते हैं। करियर और उत्‍पादकता को बढ़ावा देने के लिए एआई की क्षमता के प्रति उत्‍साह स्‍पष्‍टरूप से दिख रहा है, और हम इसे अपने इंजीनियर्स के लिए एक वास्‍तविकता प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हमारे इंजीनियर्स को एआई सहयोगी बनने के लिए सुसज्जित करके, प्रतियोगी नहीं बल्कि हम इन्‍नोवेशन और दक्षता के एक नए युग की ओर बढ़ने में सक्षम होंगे, जहां वे सांसारिक कार्यों को स्‍वचालित बनाने, गहन डेटा संचालित अंतरदृष्टि प्राप्‍त करने और वास्‍तव में रचनात्‍मक और रणनीतिक पहलुओं पर ध्‍यान केंद्रित करने के लिए एआई की ताकत का लाभ उठा सकते हैं। अंतत: एआई इंजीनियरिंग का भविष्‍य है और इंजीनियर्स को नेतृत्‍व करने के लिए सशक्‍त बनाने के लिए ईपैम यहां है।

श्री श्रीनिवास रेड्डी, मैनेजिंग डायरेक्‍टर, ईपैम इंडिया ने कहा ईपैम मॉडर्न इंजीनियर का घर है, और हमारे सर्वे के परिणाम एआई को अपनाने को गहराई से प्रतिध्‍वनित करते हैं। इंजीनियर्स करियर और उत्‍पादकता को बढ़ावा देने के लिए एआई में अपार क्षमता को देखते हैं, और कंपनियों को ज्ञान की खाई को कम करने और हमारे इंजीनियर्स को एआई युग में आगे बढ़ने के लिए आवश्‍यक कौशल और समर्थन उपलब्‍ध कराने की जरूरत है। सर्वे निरंतर सीखने और विकास के लिए हमारी प्रतिबद्धता को और मजबूत बनाता है। व्‍यापक प्रशिक्षण संसाधन प्रदान कर, सहयोग की संस्‍कृति को बढ़ावा देकर और रोजगार सुरक्षा की चिंताओं को दूर करके, हम अपने इंजीनियर्स को न केवल एआई को समझने के लिए सशक्‍त बना सकते हैं बल्कि और भी अधिक इन्‍नोवेटिव और उत्‍पादक बनने के लिए इसकी शक्ति का लाभ उठा सकते हैं। आखिरकार, एआई को एक रिप्‍लेसमेंट के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए, बल्कि इसे एक शक्तिशाली उपकरण के रूप में देखा जाना चाहिए जो हमारे इंजीनियर्स की कार्यक्षमता को बढ़ा सकता है।

Comments

Popular posts from this blog

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ गोविंद जी द्वारा हार्ट एवं कैंसर हॉस्पिटल का शिलान्यास होगा

22 वें ऑल इंडिया होम्योपैथिक कांग्रेस का हुआ आयोजन

सेंट पीटर्स कॉन्वेंट विद्यालय ने अपना वार्षिकोत्सव मनाया